अनमोल वचन (Precious words)


सफलता
 
दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुँच जाते है|
मेहनत
 
हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते है और अगर हमको अपना भाग्य लिखना नहीं आता तो परिस्थितियां हमारा भाग्य लिख देंगी|
असंभव*
 
इस दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं| हम वो सब कर सकते है, जो हम सोच सकते है और हम वो सब सोच सकते है, जो आज तक हमने हार ना मानना*
 
बीच रास्ते से लौटने का कोई फायदा नहीं क्योंकि लौटने पर आपको उतनी ही दूरी तय करनी पड़ेगी जितनी दूरी तय करने पर आप लक्ष्य तक पहुँच सकते है|

प्लेट में खाना छोड़ने से पहले रतन टाटा का ये संदेश ज़रूर पढ़ें!
 
दुनिया के जाने-माने industrialist Ratan Tata ने अपनी एक Tweet के माध्यम से एक बहुत ही inspirational incident share किया था। आज मैं उसी ट्वीट का हिंदी अनुवाद आपसे शेयर कर रहा हूँ :
 
पैसा आपका है लेकिन संसाधन समाज के हैं!
 
जर्मनी एक highly industrialized देश है। ऐसे देश में, बहुत से लोग सोचेंगे कि वहां के लोग बड़ी luxurious लाइफ जीते होंगे।
 
जब हम हैम्बर्ग पहुंचे, मेरे कलीग्स एक रेस्टोरेंट में घुस गए, हमने देखा कि बहुत से टेबल खाली थे। वहां एक टेबल था जहाँ एक यंग कपल खाना खा रहा था। टेबल पर बस दो dishes और beer की दो bottles थीं। मैं सोच रहा था कि क्या ऐसा सिंपल खाना रोमांटिक हो सकता है, और क्या वो लड़की इस कंजूस लड़के को छोड़ेगी!
 
एक दूसरी टेबल पर कुछ बूढी औरतें भी थीं। जब कोई डिश सर्व की जाती तो वेटर सभी लोगों की प्लेट में खाना निकाल देता, और वो औरतें प्लेट में मौजूद खाने को पूरी तरह से ख़तम कर देतीं।
 
चूँकि हम भूखे थे तो हमारे लोकल कलीग ने हमारे लिए काफी कुछ आर्डर कर दिया। जब हमने खाना ख़तम किया तो भी लगभग एक-तिहाई खाना टेबल पर बचा हुआ था।
 
जब हम restaurant से निकल रहे थे, तो उन बूढी औरतों ने हमसे अंग्रेजी में बात की, हम समझ गए कि वे हमारे इतना अधिक खाना waste करने से नाराज़ थीं।
 
” हमने अपने खाने के पैसे चुका दिए हैं, हम कितना खाना छोड़ते हैं इससे आपका कोई लेना-देना नहीं है।”, मेरा कलीग उन बूढी औरतों से बोला। वे औरतें बहुत गुस्से में आ गयीं। उनमे से एक ने तुरंत अपना फ़ोन निकला और किसी को कॉल की। कुछ देर बाद, Social Security Organisation का कोई आदमी अपनी यूनिफार्म में पहुंचा। मामला समझने के बाद उसने हमारे ऊपर 50 Euro का fine लगा दिया। हम चुप थे।
 
ऑफिसर हमसे कठोर आवाज़ में बोला, “उतना ही order करिए जितना आप consume कर सकें, पैसा आपका है लेकिन संसाधन सोसाइटी के हैं। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो संसाधनों की कमी का सामना कर रहे हैं। आपके पास संसाधनों को बर्वाद करने का कोई कारण नहीं है।”
 
इस rich country के लोगों का mindset हम सभी को लज्जित करता है। हमे सचमुच इस पर सोचना चाहिए। हम ऐसे देश से हैं जो संसाधनों में बहुत समृद्ध नहीं है। शर्मिंदगी से बचने के लिए हम बहुत अधिक मात्रा में आर्डर कर देते हैं और दूसरों को treat देने में बहुत सा food waste कर देते हैं।
 
The Lesson Is – अपनी खराब आदतों को बदलने के बारे में गम्भीरता से सोचें।
 
Very True- “MONEY IS YOURS BUT RESOURCES BELONG TO THE SOCIETY / पैसा आपका है लेकिन संसाधन समाज के हैं।”
 
दोस्तों, कोई देश महान तब बनता है जब उसके नागरिक महान बनते हैं। और महान बनना सिर्फ बड़ी-बड़ी achievements हासिल करना नही है…महान बनना हर वो छोटे-छोटे काम करना है जिससे देश मजबूत बनता है आगे बढ़ता है। खाने की बर्बादी रोकना, पानी को waste होने से बचाना, बिजली को बेकार ना करना…ये छोटे-छोटे कदम हैं जो देश को मजबूत बनाते हैं।
 
आइये Ratan Tata जी द्वारा share किये गए इस inspirational incident से हम एक सबक लें और अपने-अपने स्तर पर देश के बहुमूल्य  resources को बर्वाद होने से बचाएं और ये बात हमेशा याद रखें कि भले पैसा हमारा है पर संसाधन देश के हैं !⁠⁠⁠⁠

1.0   “बीता कल आज की याद है, और आने वाला कल आज का स्वप्न।”l- खलील जिब्रानI

2.0   “सपने पूरे होंगे लेकिन आप सपने देखना शुरू तो करें।”-  अब्दुल कलाम I

3.0   “लोग अक्सर कहते हैं कि मैं भाग्यशाली हूँ। लेकिन भाग्य केवल उचित समय पर अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिलने तक ही महत्व रखता है। उसके बाद आप को प्रतिभा और प्रतिभा को काम में ला पाने की योग्यता की आवश्यकता होती है।”- फ्रैंक सिनात्रा I

4.0   “मित्रता और लेनदेन - जैसे कि तेल और पानी।”- मारियो प्यूज़ो I

5.0   “आयु आपकी सोच में है। जितनी आप सोचते हैं उतनी ही आपकी उम्र है।”- मुहम्मद अली I

6.0   “अगर आप सही राह पर चल रहे हैं, और आप चलते रहने के लिए तत्पर हैं, तो आप अंततः प्रगति करेंगे।”- बराक ओबामा I

7.0   “अपने लक्ष्य के प्रति अदम्य विश्वास से प्रेरित दृढ़ संकल्पी लोगों का एक छोटा सा समूह भी इतिहास का प्रवाह बदल सकता है।– गांधी I

8.0   “व्यक्ति अपने विचारों का ही परिणाम है - जैसा वह सोचता है, वैसा वह बनता है।”- गांधी I

9.0   “प्रकृति को गहराई से देखें, और आप हर चीज़ को बेहतर समझ पाएंगे।”- अल्बर्ट आइंस्टीन I

10.0            “प्रकृति का अध्ययन करें, प्रकृति से प्रेम करें, प्रकृति के सान्निध्य में रहें। यह आप को कभी हताश नहीं करेगी।”- फ्रैंक लॉयड राइट

11.0            “सतत प्रयास - न कि ताकत या बुद्धिमानी - ही हमारे सामर्थ्य को साकार करने की कुंजी है।”-विंस्टन चर्चिल I

12.0            “आप जितना हो सके उतने चतुर बनें, लेकिन याद रखें कि विवेकी होना चतुर होने से हमेशा बेहतर है।”- एलेन एल्डा I

13.0            “मुझे एक पेड़ काटने के लिए यदि आप छह घंटे देते हैं तो मैं पहले चार घंटे अपनी कुल्हाड़ी की धार बनाने में लगाऊँगा।”-  अब्राहम लिंकन

14.0            “चरित्र एक वृक्ष है और मान एक छाया। हम हमेशा छाया की सोचते हैं; लेकिन असलियत तो वृक्ष ही है।”- अब्राहम लिंकन I

15.0            “बुद्धिमत्ता पारितोषिक है आप के जीवनपर्यंत श्रोता बने रहने का, उन सब क्षणों में भी जब आप बोलना चाहते थे।”-

डग लार्सन I

16.0            “सफलता अपने सामर्थ्य को साकार करना है। जीवन का केवल इंतज़ार भर न करें - इसे जीएं, सराहें, चखें, महकें और महसूस करें।”-  जो केप्प I

17.0            “हम कभी नहीं जान पाएंगे कि एक छोटी सी मुस्कान कितना भला कर सकती है।”- संत तरेसा I

18.0            “छोटी छोटी बातों में विश्वास रखें, क्योंकि इन में ही आपकी शक्ति निहित है।”- संत तरेसा I

19.0            “खुशी अपने आप नहीं मिलती। यह आपके अपने कर्मों से ही आती है।”- दलाई लामा I

20.0            “अगर सफलता आप के आदर्शों से मेल नहीं खाती - यदि यह दुनिया को अच्छी लगती हो लेकिन आप को अपने मन में नहीं अच्छी लगती - तो यह सफलता नहीं है।”- एना क्विन्ड्लेन I

21.0            “आपके पास जितना समय अभी है उससे अधिक समय कभी नहीं होगा।”- अज्ञात I

22.0            “अपना जीवन ऐसे जिये कि आपके बच्चे अपने बच्चों से कह सकें कि आप न केवल किसी प्रशंसनीय निमित्त के समर्थक थे - आप उसका पालन भी करते थे।”- डेन जाद्रा I

23.0            “सफलता की गिनती यह नहीं कि आप खुद कितने ऊंचे तक उठे हैं बल्कि इसमें कि आप अपने साथ कितने लोगों को लाएँ हैं।”- विल रॉस I

24.0            “जीवन का आनंद लेना और अपने मनभावन कर्म करना ही सफलता है।”- विंस फाफ I

25.0            “समस्त संसार के लिए हो सकता है कि आप केवल एक इंसान हों लेकिन संभव है कि किसी एक इंसान के लिए आप समस्त संसार हों।”- जोसेफीन बिलिंग्स I

26.0            “हमारी नित्य की दिनचर्या में हम भूल जाते हैं कि हमारा जीवन तो एक अविरत अद्भुत अनुभव है।”- माया एंजेलू I

27.0            “जो बीत गया है उसकी परवाह न करें, जो आने वाला है उसके स्वप्न न देखें, अपना ध्यान वर्तमान पर लगाएँ।”- बुद्ध I

28.0            “पत्नी को चाहिए कि पति घर लौटने पर खुश हो, और पति को चाहिए कि पत्नी को उसके घर से निकलने पर दुख हो।”I      - मार्टिन लूथर I

29.0            “बुद्धि का अर्जन हम तीन तरीकों से कर सकते हैं: प्रथम, चिंतन से, जो कि उत्तम है; द्वितीय, दूसरों से सीखकर, जो सबसे आसान है; और तृतीय, अनुभव से, जो सबसे कठिन है। ” – कन्फ़्यूशियस I

30.0            “जब हम किसी नई परियोजना पर विचार करते हैं तो हम बड़े गौर से उसका अध्ययन करते हैं - केवल सतह मात्र का नहीं, बल्कि उसके हर एक पहलू का। ” I - वाल्ट डिज़्नी I

31.0            “आपकी कल्पनाशक्ति आपके जीवन के आने वाले आकर्षणों का पूर्वावलोकन है।”- एल्बर्ट आइन्स्टाइन I

32.0            “हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं। ” - क्रिस्टोफर रीव I

33.0            “ऐसा न कहें कि आप के पास वक़्त नहीं है। आप के पास हर दिन उतने ही घंटे हैं जितने हेलन केलर, लूइस पाश्चर, माइकल एंजेलो, मदर तरेसा, लियोनार्डो द विंची, थॉमस जैफरसन और एल्बर्ट आइंस्टीन को मिलते थे। ” - एच जैकसन ब्राऊन, जूनियर I

34.0            “मेरी बेहतरीन चाल अपने आप को ऐसे मित्रों से घेर लेने की है जो "क्यों?" पूछने के बजाय तुरंत ही कहने लगते हैं, "क्यों नहीं?" ऐसी प्रवृत्ति संक्रामक होती है। ” - ओप्रह विंफ़्री I

35.0            “हर बार जब मैं वास्तविकता से मुंह मोड़ता हूं, तो यह दूसरा रूप लेकर मेरे सामने आ जाती है।”- जेनिफर जूनियर I

36.0            “हर कोई दुनिया बदलने की सोचता है, लेकिन कोई भी अपने आप को बदलने की नहीं सोचता।”- लियो टालस्टाय I

37.0            “हमेशा समग्र प्रयास करें, तब भी जब परिस्थितियां आपके अनुकूल न हों।”- अज्ञात I

38.0            “हमें भाईयों की तरह मिलकर रहना अवश्य सीखना होगा अन्यथा मूर्खों की तरह सभी बरबाद हो जाएंगे।”- मार्टिन लूथर किंग, जूनियर I

39.0            “हम प्रयास के लिए उत्तरदायी हैं, न कि परिणाम के लिए।”- गीता I

40.0            “हम अपने विगत काल के बारे में सोच-सोच कर ही अपना भविष्य बिगाड़ बैठते हैं।”- पर्सियस I

41.0            “साहसी व्यक्ति ही विश्वास से परिपूर्ण होता है।”- मार्कस टूल्लियस सिसेरो I

42.0            “साझा की गई खुशी दुगनी खुशी होती है; साझा किया गया दुख आधा होता है।”- स्वीडन की कहावत I

43.0            “सही काम करने के लिए समय हर वक्त ही ठीक होता है।”- मार्टिन लूथर किंग जूनियर I

44.0            “सर्वश्रेष्ठ समय अभी है।”- ओपराह विनफ्रे I

45.0            “समस्या से पूर्व चिंता करना, अपनी हानि करना होता है।”- विलियम राल्फ इंगे I

46.0            “समय हमेशा कड़ी मेहनत करने वालों का मित्र रहा है।”- अज्ञात I

47.0            “समय सबसे कम पाया जाने वाला संसाधन है, और जब तक इसका अच्छा प्रबंधन नहीं किया जाता है, तो बाकी किसी चीज का प्रबंधन नहीं किया जा सकता है।”-  पीटर एफ.ड्रकर I

48.0            “समय तब तक दुश्मन नहीं बनता जब तक आप इसे व्यर्थ गंवाने का प्रयास नहीं करते हैं।”- अज्ञात I

49.0            “सफल होने के लिए असफलता आवश्यक है, ताकि आपको यह पता चल सके कि अगली बार क्या नहीं करना है।”- एंथनी जे. डिएन्जेलो I

50.0            “सफल व्यक्ति वही होता है जो दूसरों की आलोचना से एक ठोस आधार तैयार करता है।”- डेविड ब्रिंकले I

51.0            “सतत प्रयास न कि शक्ति और बुद्धिमत्ता- हमारी संभाव्यता को प्रकट करने की कुंजी है।”- विंसटन चर्चिल I

52.0            “विश्वास और प्रार्थना आत्मा के दो विटामिन हैं; कोई भी व्यक्ति इनके बिना स्वस्थ जीवन यापन नहीं कर सकता है।”-

- महालिया जैकसन I

53.0            “वास्तविक कठिनाईयों को दूर किया जा सकता है; केवल कल्पनात्मक कठिनाईयां को ही पराजित नहीं किया जा सकता है।”- थियोडोर एन. वेल I

54.0            “जीवन की भाग-दौड़ तथा उथल-पुथल में अंदर से शांत बने रहें।”- दीपक चोपड़ा I

55.0            “जीतने का इतना महत्व नहीं है जितना की जीतने के लिए प्रयास करने का महत्व होता है.” -जिग जिगलार I

56.0            “जिसके पास स्वास्थ्य है, उसके पास आशा है तथा जिसके पास आशा है, उसके पास सब कुछ है.” - अरबी कहावत I

57.0            “जब हम अपने विचारों को सही दिशा निर्देशन प्रदान करते हैं, तो हम अपनी भावनाओं को नियंत्रित कर सकते हैं.”

- डब्ल्यू. क्लेमेंट स्टोन I

58.0            “जब दुनिया यह कहती है कि “हार मान लो”, तो आशा धीरे से कान में कहती है कि, “एक बार फिर से प्रयास करो”.” - -अज्ञात I

59.0            “जब तक आप न चाहें तब तक आपको कोई भी ईर्ष्यालु, क्रोधी, प्रतिशोधी, या लालची नहीं बना सकता है.” -नेपोलियन हिल I

60.0            “जब अवसर आता है तो तत्पर रहें....किस्मत वह समय है जब तैयारी और अवसर की मुलाकात होती है.” -राय डी. चैपिन जूनियर I

61.0            “चांद की आशा करें, यदि आप असफल भी होंगे तो तारों तक तो पहुंच ही जाएंगे.” - लेस ब्राउन I

62.0            “गुणवत्ता कोई अचानक प्राप्त होने वाली वस्तु नहीं है. यह तो हमेशा से बुद्धिमत्तापूर्ण किए गए प्रयासों का परिणाम है.”- आर्नोल्ड पामर I

63.0            “क्षमा करने से पिछला समय तो नहीं बदलता, लेकिन इससे भविष्य सुनहरा हो उठता है.” - पॉल बोएस I

64.0            “क्षमा करना सबसे मधुर प्रतिशोध है.” - इसाक फ्राइडमैन्न I

65.0            “कोई भी व्यक्ति जो स्वयं को शासित नहीं कर सकता वह दूसरे पर शासन करने के लिए उपयुक्त नहीं है.” -विलियम पेन्न I

66.0            “केवल वही व्यक्ति जिनके पास सरल कार्य को उत्कृष्टता के साथ करने का धैर्य है, वही व्यक्ति कठिन कार्यों को सरलता से करने का कौशल सीखते हैं.”- जोहान्न फ्रेडरिच वॉन शिल्लर I

67.0            “कुछ लोग सफलता के सपने देखते हैं... जबकि अन्य व्यक्ति जागते हैं और कड़ी मेहनत करते हैं.” – अज्ञात I

68.0            “किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके विचारों का समूह होता है; जो वह सोचता है, वैसा वह बन जाता है.” -महात्मा गांधी I

69.0            “काम समस्त सफलता की आधारभूत नींव होता है.” - पाब्लो पिकासो I

70.0            “औपचारिक शिक्षा आपको जीविकोपार्जन के लिए उपयुक्त बना देती है; स्व शिक्षा (अनुभव) आपका भाग्य बनाती है.” - जिन रॉन I

71.0            “ऐसा व्यक्ति जो अपनी आंतरिक सत्ता का शासक है तथा अपनी भावनाओं, इच्छाओं, और भय को नियंत्रित करता है, वह किसी राजा से भी श्रेष्ठ व्यक्ति है.” -- जॉन मिल्टन I

72.0            “एकमात्र व्यायाम से ही मन की वृत्तियों को सहायता मिलती है, तथा इसी से मस्तिष्क तरोताजा बना रहता है.” – सीसेरो I

73.0            “एक बार जब आप निर्णय कर लेते हैं तो समस्त सृष्टि इसके भलीभूत होने के लिए तत्पर हो जाती है.” - राल्फ वाल्डो एमर्सन

74.0            “एक बार जब आप आशा का दामन थाम लेते हैं, तो सब कुछ संभव हो जाता है.” - क्रिस्टोफर रीव I

75.0            “एक गुस्सैल व्यक्ति अपना मुंह खोलता है, लेकिन अपनी आंखे (सोचने की शक्ति को) बन्द कर लेता है.” – कैटो I

76.0            “एक अच्छी नींद प्रत्येक बीमारी के लिए एक रोगोपचार है.” – मेनांडर I

77.0            “उपलब्धि के चार कदम: उद्देश्यपूर्ण योजना बनाए. प्रार्थना के साथ तैयारी करें. सकारात्मक रूप से आगे बढ़े. निरन्तर अपने लक्ष्य के लिए प्रयासरत रहें.” - विलियम ए. वार्ड I

78.0            “उत्साह, प्रयास की जननी है, तथा इसके बिना आज तक कोई महान उपलब्धि हासिल नहीं की गई है.” - राल्फ वाल्डो एमर्सन I

79.0            “आशा वह शब्द है जिसे स्वयं भगवान ने प्रत्येक व्यक्ति के माथे पर लिखा है.” - विक्टर हूगो I

80.0            “आशा वह शक्ति है जो उन परिस्थितियों में भी हमें प्रसन्न बनाए रखती है जिनके बारे में हम जानते हैं कि वे खराब हैं.” -जी.के.चेस्टर्टन I

81.0            “आशा कभी आपको छोड़ कर नहीं जाती है, आप इसे छोड़ते हैं.” - जॉर्ज वीनवर्ग I

82.0            “आपको स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन-मस्तिष्क की प्रार्थना करनी चाहिए.” – जुवेनाल I

83.0            “आपके सिवाए आपकी खुशियों का नियंत्रण किसी ओर के पास नहीं है; इसलिए, आपके पास अपनी किसी भी स्थिति को परिवर्तन करने की शक्ति है.” - बारबरा डे एंजेलिस I

84.0            “आपके जीवन का नियंत्रण केन्द्र आपका अपना रवैय्या है.” – अज्ञात I

85.0            “आप हमेशा परिस्थितियों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप स्वयं को नियंत्रित कर सकते हैं.” - एंथनी रोब्बिन्स I

86.0            “आप जो कुछ चाहते हैं, वह आपको मिल जाएगा, यदि आप यह विचार त्यागने के लिए तैयार हैं कि आप उसे प्राप्त नहीं कर सकते हैं.” - राबर्ट एंथनी I

87.0            “आप अपने पास दुखों को आने से नहीं रोक सकते हैं, लेकिन आप उन दुखों से घबराएं नहीं, ऐसा तो आप कर सकते हैं.” - चीनी कहावत I

88.0            “आदर्श परिस्थितियों या सर्वश्रेष्ठ अवसरों की प्रतीक्षा न करें; वे कभी नहीं आने वाली हैं.” - जैनेट एर्सकाइन स्टुअर्ट I

89.0            “आइये उन व्यक्तियों के प्रति आभार व्यक्त करें जो हमें प्रसन्न बनाते हैं.” - मार्सल प्रोसाउट I

90.0             “असीमित चिंता भी क्यों न कर लें, लेकिन चिंता से तो एक छोटी सी भी समस्या का हल नहीं होगा.” - जार्ज हर्बर्ट I

91.0            “असफलता से सफलता की शिक्षा मिलती है.” - जापनी कहावत I

92.0            “असफलता मात्र फिर से कार्यारम्भ करने का अवसर होती है, इस बार और अधिक बुद्धिमत्ता से.” - हेनरी फोर्डI

93.0            “असफलता की उत्पत्ति तभी होती है जब आप प्रयास करना बन्द कर देते हैं.” - एल्बर्ट हब्बार्ड I

94.0            “असंभव और संभव के बीच में अंतर व्यक्ति के दृढ़ निश्चय पर निर्भर करता है.” - टॉमी लासोर्डा I

95.0            “अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए समय न निकालने वाला व्यक्ति ऐसे मिस्त्री के समान होता है तो अपने औजारों की ही देखभाल में व्यस्त रहता है.” - स्पेन की कहावत I

96.0            “अपने दुश्मनों पर विजय पाने वाले की तुलना में मैं उसे शूरवीर मानता हूं जिसने अपनी इच्छाओं पर विजय प्राप्त कर ली है; क्योंकि सबसे कठिन विजय अपने आप पर विजय होती है.” – अरस्तु I

97.0            “अपने दिल दिमाग के थोड़े से भी हिस्से से आप बुराइयों को निकाल बाहर कीजिए, तुरंत उस रिक्त स्थान को सृजनात्मकता भर देगी.” - डी हॉक I

98.0            “अनुभव एक महान अध्यापक होता है.” - जॉन लिजेन्ड I

99.0            “अच्छे मित्र के साथ कोई भी मार्ग लंबा नहीं होता है.” - तुर्की की कहावत I

100.0        “अपने को संभालने के लिए अपने मस्तिष्क का प्रयोग करें; दूसरों के साथ व्यवहार करने में अपने दिल का प्रयोग करें.” I - डोनाल्ड लेयर्ड I

101.0        “अपनी वाणी को जितना हो सके निर्मल और पवित्र रखें, क्योंकि संभव है कि कल आपको उन्हें वापस लेना पड़ सकता है.” I- अज्ञात I

102.0        “अपनी कल्पना को जीवन का मार्गदर्शक बनाएं, अपने अतीत को नहीं.” - स्टीफन कोवि I

103.0        “धन कमाने की आस में निकलना जीवन की सबसे भारी गलती है. वही करें जिसमें आपकी रुचि हो, और यदि आप उसमें निपुण हैं, धन अपने आप आएगा.” - ग्रीअर गार्सन I

104.0        “अच्छा स्वास्थ्य यदि बोतल में मिलता तो सभी का हष्ट-पुष्ट होते. एक्सरसाइज करें.” – चेर I

105.0        “सम्पन्नता कीमती साज-सामान एकत्रित करना नहीं बल्कि अपनी आवश्यकताओं को सीमित रखना है.” I- एपिक्टेटस I

106.0        “आप ईश्वर में तब तक विश्वास नहीं कर पाएंगे जब तक आप अपने आप में विश्वास नहीं करते.” - स्वामी विवेकानंद I

107.0        “एक राष्ट्र की शक्ति उसकी आत्मनिर्भरता में है, दूसरों से उधार लेकर पर काम चलाने में नहीं.” - इंदिरा गांधी I

108.0        “यह एक प्रकार का आध्यात्मिक दंभ है जिसमें लोगों को लगता है कि वे धन के बिना सुखी रह सकते हैं.” - एल्बर्ट कामू I

109.0        “इस सीमित संसार में भौतिक सुखों की असीमित वृद्धि होते जाना असंभव है.” - ई एफ शूमाकर I

110.0        “सफलता की खुशियां मनाना ठीक है लेकिन असफलताओं से सबक सीखना अधिक महत्वपूर्ण है.” - बिल गेट्स I

111.0        “हमारे व्यक्तित्व की उत्पत्ति हमारे विचारों में है; इसलिए ध्यान रखें कि आप क्या विचारते हैं. शब्द गौण हैं. विचार मुख्य हैं; और उनका असर दूर तक होता है.” - स्वामी विवेकानंद I

112.0        “टीवी वास्तविकता से परे है. वास्तविक जीवन में लोगों को फुरसत छोड़ कर नौकरी और कारोबार करना होता है.” - बिल गेट्स I

113.0        “जागें, उठें और न रुकें जब तक लक्ष्य तक न पहुंच जाएं.” - स्वामी विवेकानंद I

114.0        “जीवन में सबसे महत्वपूर्ण वस्तुएं वस्तुएं नहीं होती.” - एंथनी डी'एंजेलो I

115.0        “अभिकल्पना किसी यंत्र की बाहरी बनावट मात्र नहीं है. अभिकल्पना तो इसकी कार्यविधि का मूल है.” - स्टीव जॉब्स I

116.0        “जीवन ताश के खेल के समान है. आप को जो पत्ते मिलते हैं वह नियति है; आप कैसे खेलते हैं वह आपकी स्वेच्छा है. ” -  जवाहरलाल नेहरु I

117.0        “मुझे नहीं मालूम की आप कुछ बदल सकते हैं, और बदल भी दें तो यह सागर में एक बूंद बराबर ही है.” - जूली वॉल्टर्स I

118.0        “पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है.” - टॉम बोडेट I

119.0        “अगर आप कदम उठाने से पहले सब सुनिश्चित करने की प्रतीक्षा करते है, तो संभव है कि आप कभी ज्यादा कुछ कर ही न पाएं. ” -विन बॉर्डेन I

120.0        “सुखी विवाह का रहस्य एक रहस्य ही है. ” - हैनी यंगमैन I

121.0        “मुझे नहीं मालूम की आप कुछ बदल सकते हैं, और बदल भी दें तो यह सागर में एक बूंद बराबर ही है.” - जूली वॉल्टर्स I

122.0        “पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है.” - टॉम बोडेट I

123.0        “कोई भी जीवन में पीछे जाकर नई शुरुआत नहीं कर सकता, लेकिन कोई भी आज शुरुआत कर एक नए अंत को अंजाम दे सकता है।”- मरिया रोबिंसन I

124.0        “परिवर्तन नए अवसर लाता है।”- नीडो क्युबैन I

125.0        “गुणवत्ता प्रचुरता से अधिक महत्वपूर्ण है. एक छक्का दो-दो रन बनाने से कहीं बेहतर है.” - स्टीव जॉब्स I

126.0        “परिवर्तन को जो ठुकरा देता है वह क्षय का निर्माता है. केवलमात्र मानव व्यवस्था जो प्रगति से विमुख है वह है कब्रगाह.” - हैरल्ड विल्सन I

127.0        “गुणवत्ता की कसौटी बनें। कई लोग ऐसे वातावरण के अभ्यस्त नहीं होते जहां उत्कृष्टता अपेक्षित होती है। ” - स्टीव जॉब्स I

128.0        “कभी कभी छोटे निर्णय भी जीवन को हमेशा के लिये बदल सकते हैं।” - केरि रसैल I

129.0        “आप प्रसन्न है या नहीं यह सोचने के लिए फुरसत होना ही दुखी होने का रहस्य है, और इसका उपाय है व्यवसाय। ” - जॉर्ज बर्नार्ड शॉ I

130.0        “जिस प्रकार मैं एक गुलाम नहीं बनना चाहता, उसी प्रकार मैं किसी गुलाम का मालिक भी नहीं बनना चाहता। यह सोच लोकतंत्र के सिद्धांत को दर्शाती है। ” - अब्राहम लिंकन I

131.0        “विवाह उनसे न करें जिनके साथ आप रह सकते हैं; विवाह उनसे करें जिनके बिना आप नहीं रह सकते।”- जेम्स डॉब्सन I

132.0        “याद रखें कि भविष्य एक बार में एक दिन करके आता है।”- डीन ऐचिसन I

133.0        “मजबूरी की स्थिति आने से पहले ही परिवर्तन कर लें।”- जैक वेल्च I

134.0        “आप को अच्छा करने का अधिकार बुरा करने के अधिकार के बिना नहीं मिल सकता। माता का दूध शूरवीरों का ही नहीं, वधिकों का भी पोषण करता है।”- जॉर्ज बर्नार्ड शॉ I

135.0        “किसी पुरुष या महिला के पालन-पोषण की आज़माइश तो एक झगड़े में उनके बर्ताव से होती है। जब सब ठीक चल रहा हो तब अच्छा बर्ताव तो कोई भी कर सकता है।”- जॉर्ज बर्नार्ड शॉ I

136.0        “लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित कर पाना ही सफ़लता का एक अति महत्वपूर्ण सूत्र है”- थियोडोर रूसवेल्ट I

137.0        “आप रुक सकते हैं लेकिन समय नहीं रुकता।”- बेंजामिन फ्रैंकलिन II

138.0        “जो समय मैं नष्ट कर रहा हूं, वह मुझे नष्ट कर रहा है।”- मेसन कूली I

139.0        “चाहे वे कितने ही प्रतिभाशाली क्यों न हो, अपने आप को प्रेरित करने में असमर्थ लोगों को औसत परिणामों से ही संतुष्ट होना पड़ता है।”- एंड्रू कार्नेगी I

140.0        “अपनी सफलता में किस्मत को जो बिल्कुल नहीं मानते, वे अपने आप से मजाक कर रहे हैं।”-  लैरी किंग I

141.0        “सफल मनुष्य बनने के प्रयास से बेहतर है गुणी मनुष्य बनने का प्रयास”- एल्बर्ट आइंस्टीन I

142.0        “कर्म सफलता का मूल है।”- पाब्लो पिकासो I

143.0        “सफल होने के लिए ज़रूरी है कि आप में सफलता की आस असफलता के डर से कहीं अधिक हो।”- बिल कोस्बी I

144.0        “जब तक आप अपनी कद्र नहीं करते, आप अपने समय की कद्र नहीं करेंगे। और आप अपने समय की कद्र नहीं करेंगे तो आप कुछ नहीं कर पाएंगे।”- एम. स्कॉट पेक I

145.0        “मुझे सफलता का उपाय नहीं मालूम लेकिन यह मालूम है कि सब को खुश करने का प्रयत्न असफलता का उपाय है।”- बिल कोस्बी I

146.0        “सुअवसरों पर कदम बढ़ाना ही सफलता की सीढ़ी चढ़ने का उत्तम तरीका है।”- ऐन रैंड I

147.0        “खोया समय कभी फिर नहीं मिलता।”- बेंजामिन फ्रैंकलिन I

148.0        “हम आगे बढ़ते हैं, नए रास्ते बनाते हैं, और नई योजनाएं बनाते हैं, क्योंकि हम जिज्ञासु है और जिज्ञासा हमें नई राहों पर ले जाती है। ” - वाल्ट डिज़्नी I

149.0        “सबसे बुद्धिमान व्यक्ति के लिए अभी भी कुछ सीखना बाकी होता है।”- जॉर्ज संटायाना I

150.0        “यदि आपको भगवान का भय है, तो आपको मनुष्यों से डर नहीं लगेगा।”- अल्बानियाई कहावत I

151.0        “निर्धनता में भी हंस सकने वाला व्यक्ति निर्धन नहीं होता है।”- रेमण्ड हिचकॉक I

152.0        “जिस चीज को आप बदल नहीं सकते हैं, आपको उसे अवश्य ही सहन करना चाहिए।”- स्पेनी कहावत I

153.0        “सहिष्णुता के अभ्यास में आपका शत्रु ही सर्वश्रेष्ठ शिक्षक होता है।”- दलाई लामा I

154.0        “प्रत्येक कलाकार एक दिन नौसिखिया ही होता है।”- राल्फ वाल्डो एमर्सन I

155.0        “जब तक आप आंतरिक रूप से शांति नहीं खोज पाते तो इसे अन्यत्र खोजने से कोई लाभ नहीं है।- एल. ए. रोशेफोलिकाउल्ड I

156.0        “जब तक अपनी हार को दब्बूपने से स्वीकार नहीं कर लेते, आप हारने के लिए नहीं बने हैं।”- अज्ञात I

157.0        “मेरे मित्र ही मेरी सम्पदा हैं।”- एमिली डिकिन्सन I

158.0        मुस्कुराहट, आपकी खूबसूरती में सुधार करने का एक सस्ता तरीका है।”- अज्ञात I

159.0        “आपकी मर्जी के बिना कोई भी आपको तुच्छ होने का अहसास नहीं करवा सकता है।”- एलेयनोर रूज़वेल्ट I

160.0        “प्रत्येक कलाकार एक दिन नौसिखिया ही होता है।”- राल्फ वाल्डो एमर्सन I

161.0        “जब तक आप आंतरिक रूप से शांति नहीं खोज पाते तो इसे अन्यत्र खोजने से कोई लाभ नहीं है।”- एल. ए. रोशेफोलिकाउल्डI

162.0        “यदि आप अमीर होने की अनुभूति चाहते हैं तो उन वस्तुओं पर विचार करें जो जिन्हें पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है।”-अज्ञात I

163.0        “यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।”- जोसेफ फेर्रेल I

164.0        “सम्पत्ति उस व्यक्ति की होती है जो इसका आनन्द लेता है न कि उस व्यक्ति को जो इसे अपने पास रखता है।”- अफगानी कहावत I

165.0        “गलतियों से न सीखना ही एकमात्र गलती होती है।”- रॉबर्ट फ्रिप्प I

166.0        “आपकी मनोवृत्ति ही आपकी महानता को निर्धारित करती है।”- अज्ञात I

167.0        “अधिकांश व्यक्ति अप्राप्त वस्तुओं को प्राप्त करने में प्रयासरत रहते हैं और इस प्रकार उन्हीं चीजों के गुलाम बन के रह जाते हैं जिन्हें वे प्राप्त करना चाहते हैं।”- अनवर अल सदात I

168.0        “वास्तविक महानता की उत्पत्ति स्वयं पर खामोश विजय से होती है।”- अज्ञात I

169.0        “जीवन में बुरी आदत पर विजय प्राप्त करने की तुलना में कोई इससे बड़ा आनन्द नहीं हो सकता है।”- अज्ञात I

170.0        “यदि आप अमीर होने की अनुभूति चाहते हैं तो उन वस्तुओं पर विचार करें जो जिन्हें पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है।”- अज्ञात I

171.0        “यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।”- जोसेफ फेर्रेल I

172.0        “जीवन की चुनौतियों का अर्थ आपकी विकलांगता नहीं है; उनका उद्देश्य आपको इस बात की खोज में सहायता करना है कि आप कौन हैं।”- बर्नेस जानसन रीगन I

173.0        “धमनियों की कठोरता की तुलना में दिलों की कठोरता से लोग जल्दी बूढ़े होते हैं।”- अज्ञात I

174.0        “यदि आप सौ व्यक्तियों की सहायता नहीं कर सकते तो केवल एक की ही सहायता कर दें।”- मदर टेरेसा I

175.0        “जब तक किसी व्यक्ति द्वारा अपनी संभावनाओं से अधिक कार्य नहीं किया जाता है, तब तक उस व्यक्ति द्वारा वह सब कुछ नहीं किया जा सकेगा जो वह कर सकता है।”- हेनरी ड्रम्मन्ड I

176.0        “विचार से कर्म की उत्पत्ति होती है, कर्म से आदत की उत्पत्ति होती है, आदत से चरित्र की उत्पत्ति होती है और चरित्र से आपके प्रारब्ध की उत्पत्ति होती है। ” - बौद्ध कहावत I

177.0        “छोटी बुराई को अपने पास न आने दें क्योंकि अन्य बड़ी बुराईयां सुनिश्चित रूप से इसके पीछे-पीछे आती हैं।”- बाल्टासार ग्रेसिय I

178.0        “उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।”- मार्क ट्वेन I

179.0        “यदि आप मानसिक शांति के बदले में साम्राज्य भी प्राप्त करते हैं तो भी आप पराजित ही हैं।”- अज्ञात I

180.0        “रुकावटें वे भयावह वस्तुएं हैं जो आप उस समय देखते हैं जब आप अपने लक्ष्य से ध्यान हटा लेते हैं।”- अज्ञात I

181.0        “स्वयंसेवकों को मेहनताना नहीं दिया जाने का कारण यह नहीं कि वे मूल्यहीन होते हैं, बल्कि यह है कि वे अमूल्य होते हैं।”

शैरी एंडरसन

182.0        “अच्छा क्या है, इसे सीखने के लिए एक हजार दिन भी अपर्याप्त हैं; लेकिन बुरा क्या है, यह सीखने के लिए एक घंटा भी ज्यादा है।”- चीनी कहावत I

183.0        “जब आप दो बुराइयों में से छोटी बुराई को चुनते हैं, तो याद रखें कि वह अभी एक बुराई ही है।”- मैक्स लर्नर I

184.0        “आपकी प्रतिभा भगवान का आपको दिया हुआ उपहार है। आप जो कुछ इसके साथ करते हैं, वह आप भगवान को उपहार स्वरूप लौटाते हैं।”- अज्ञात I

185.0        “किसी व्यक्ति के दिल-दिमाग को समझने के लिए इस बात को न देखें कि उसने अभी तक क्या प्राप्त किया है, अपितु इस बात को देखें कि वह क्या अभिलाषा रखता है।”- कैहलिल जिब्रान I

186.0        “जब तक ईमानदारी नहीं है, तो सम्मान कहां से आएगा?”- सीसेरो I

187.0        “ईमानदारी से बड़ी कोई विरासत नहीं है।”- विलियम शेक्सपियर I

188.0        “बुद्धिमत्ता की पुस्तक में ईमानदारी पहला अध्याय है।”- थॉमस जैफर्सन I

189.0        “जीवन में अपने आप के सुधार (शारीरिक और मानसिक, दोनों) को पहली प्राथमिकता दें।”- रॉबिन नार्वुड I

190.0        “जब तक रुग्णता का सामना नहीं करना पड़ता; तब तक स्वास्थ्य का महत्व समझ में नहीं आता है।”- डा. थॉमस फुल्लर I

191.0        “बीमारी की कड़वाहट से व्यक्ति स्वास्थ्य की मधुरता समझ पाता है।”- कैतालियाई कहावत I

192.0        “जब तक हम दूसरों के बारे में नहीं सोचते और उनके लिए कुछ नहीं करते हैं, तब तक हम खुशियों के सबसे बड़े स्रोत को गँवाते रहते हैं।”- रे लाइमन विलबुर

193.0        “बुद्धिमत्ता की पुस्तक में ईमानदारी पहला अध्याय है।”- थॉमस जैफर्सन I

194.0        “जीवन में अपने आप के सुधार (शारीरिक और मानसिक, दोनों) को पहली प्राथमिकता दें।”- रॉबिन नार्वुड I

195.0        “मित्रता आनन्द को दुगुना और दुःख को आधा कर देती है।”- मिस्र की कहावत I

196.0        “सच्चा मित्र वही होता है जो उस समय आपका साथ देता है जब सारी दुनिया साथ छोड़ देती है।”- वाल्टर विन्चेल I

197.0        “स्वास्थ्य और बुद्धिमत्ता जीवन के दो आशीर्वाद हैं।”- मेनान्डेर I

198.0        “बीमारी की कड़वाहट से व्यक्ति स्वास्थ्य की मधुरता समझ पाता है।”- कैतालियाई कहावत I

199.0        “अपनी सोच को कैसे बेहतर बनाया जाए, यह सीखने से उत्कृष्ट कुछ नहीं है।”- अज्ञात I

200.0        “आपके विचार आपके भाग्य के निर्माता है।”- डेविड ओ. मैके I

201.0        “मित्र क्या है? एक आत्मा जो दो शरीरों में निवास करती है।”- अरस्तू I

202.0        “डर में जीना आधा जीवित रहने जैसा है।”- अज्ञात I

203.0        “हमें कुछ भी ऐसा नहीं करना चाहिए जिसे हम अपने बच्चों को करते हुए देखने के इच्छुक नहीं है।”- ब्रिघम यंग I

204.0        “धर्महीन व्यक्ति बिना नकेल वाले घोड़े की तरह होता है।”- लातिनी कहावत I

205.0        “पिता एक प्रकाश-स्तम्भ की तरह होते है।।। जब धुंध होती है तो बच्चे प्रकाश के लिए हमेशा उन पर निर्भर रह सकते हैं।”- क्रिस्टी बोरजेल्ड I

206.0        “वह रिश्ता जो आपके परिवार को वास्तव में बाँधता है, वह खून का नहीं है, बल्कि एक दूसरे के जीवन के प्रति आदर और खुशी का रिश्ता होता है।”- रिचर्ड बैक I

207.0        “स्वयं पर मूक विजय से ही वास्तविक महानता का उदय होता है।”- अज्ञात I

208.0        “ऐसा व्यक्ति जो अनुशासन के बिना जीवन जीता है वह सम्मान रहित मृत्यु मरता है।”- आईसलैण्ड की कहावत I

209.0        “अपनी खराब आदतों पर जीत हासिल करने के समान जीवन में कोई और आनन्द नहीं होता है।”- अज्ञात I

210.0        “अनुशासन, लक्ष्यों और उपलब्धि के बीच का सेतु है।”- जिम रॉन I

211.0        “यदि आप ग़ुस्से के एक क्षण में धैर्य रखते हैं, तो आप दुःख के सौ दिन से बच जाएंगे।”- चीनी कहावत I

212.0        “सफल होने के लिए, आपकी सफलता की इच्छा आपके असफलता के डर से बड़ी होनी चाहिए।”- बिल कोज़्बी I

213.0        “किसी सफल व्यक्ति तथा दूसरों के बीच में अंतर ताकत का नहीं, ज्ञान का नहीं, बल्कि इच्छाशक्ति का होता है।”- विंस लोमबार्डी I

214.0        “देरी से प्राप्त की गई सम्पूर्णता की तुलना में निरन्तर सुधार बेहतर होता है।”- मार्क टवैन I

215.0        “इतने अच्छे बने कि आपकी उपेक्षा करने का किसी में साहस ही न हो।”- स्टीव मार्टिन I

216.0        “अपने उद्देश्य महान रखें, चाहें इसके लिए कांटों भरी डगर पर ही क्यों न चलना पड़े।”- सुसैन लोंगएकर I

217.0        “महत्व इस बात का नहीं है कि आप कितने अच्छे हैं। महत्व इस बात का है कि आप कितना अच्छा बनना चाहते हैं।”- पॉल आर्डेन I

218.0        “आप अपने जीवन काल के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप इसे मूल्यवान बनाने के लिए कुछ अवश्य ही कर सकते हैं।”- इवान ईसार I

219.0        ऐसे पेशे का चयन करें जो आपको दिलचस्प लगता हो, और आपको अपने जीवन में एक भी दिन काम नहीं करना पड़ेगा।”- कंफ्यूशियस I

220.0        “आपको कुछ खास करने के लिए कुछ खास प्रकार का व्यक्ति बनना होगा।”- ज़ेन उक्ति I

221.0        “चुनौतियां जीवन को अधिक रुचिकर बनाती है; और उन्हें दूर करना जीवन को अर्थपूर्ण बनाता है।”- जोशुआ मैरिन I

222.0        “उस व्यक्ति के लिए सभी परिस्थितियां अच्छी हैं जो अपने भीतर खुशी संजो कर रखता है।”- होरेस फ्रिस्स I

223.0        “अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है। जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं।”- रोजर विलियम्स I

224.0        “खुशी का पहला उपाय - पिछली बातों पर बहुत अधिक विचार करने से बचें।”- एन्ड्रे माऊराउस I

225.0        “यदि आप दूसरों की खुशी चाहते हैं तो आपको सहानुभूति अपनानी चाहिए; यदि आप स्वयं खुश होना चाहते हैं तो भी आपको सहानुभूति ही अपनानी होगी!”I - मैरी स्ट्यूबैक I

226.0        “आशावादी व्यक्ति हर आपदा में एक अवसर देखता है; निराशावादी व्यक्ति हर अवसर में एक आपदा देखता है।”- विन्सटन चर्चिल I

227.0        “जिसे इंसान से प्रेम है और इंसानियत की समझ है, उसे अपने आप में ही संतुष्टि मिल जाती है।”- स्वामी सुदर्शनाचार्य जी I

228.0        “हंसी के क्षणों के बिना बीता दिन सबसे खराब दिन है।”- ई ई कम्मिंग्स I

229.0        “यदि मैं उदास महसूस करती हूं तो मैं काम पर चली जाती हूं। काम में व्यस्तता उदासी का उत्तम प्रतिकार है।”- एलेनोर रूजवेल्ट I

230.0        “सच्चे मित्र मुश्किल से मिलते हैं, कठिनता से छूटते हैं और भुलाए नहीं भूलते हैं। ”- जी. रेण्डॉल्फ I

231.0        “बच्चों को सीख देने का जो श्रेष्ठ तरीका मुझे पता चला है वह यह है कि बच्चों की चाह का पता लगाया जाए और फिर उन्हें वही करने की सलाह दी जाए”I- हैरी ट्रूमेन I

232.0        “उत्कृष्टता की सिद्धि तब नहीं होती जब कुछ और जोड़ना या लगाना बाकी नहीं रह जाए, बल्कि तब होती है जब कुछ हटाने के लिये नहीं बचे”- एंटोइन दे सेंट एक्जूपरि I

233.0        “गंभीर समस्याओं का आधी रात में समाधान करने की कोशिश न करें ”-  फिलिप डिक I

234.0        “मौन एक ऐसा तर्क है जिसका खण्डन कर पाना अत्यंत दुष्कर है। ”-  जॉश बिलिंग्स, विदूषकI

235.0        “अगर हम अपने सामर्थ्यानुसार कर्म करें, तो हम अपने आप को अचंभित कर डालेंगें। ”- थॉमस एडिसन I

236.0        “मुझे अधिक संबंध इस बात से नहीं है कि आप असफ़ल हुए, बल्कि इस बात से कि आप अपनी असफलता से कितने संतुष्ट है।”-  अब्राहम लिंकन I

237.0        “विचारों को मूर्त रूप देने की क्षमता ही सफलता का रहस्य है।”- हैनरी वार्ड बीचर I

238.0        “मानवता के दिशा में उठाया गया प्रत्येक कदम आपकी स्वयं की चिंताओं को कम करने में मील का पत्थर साबित होगा।”- स्वामी श्री सुदर्शनाचार्य जी I

239.0        “प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह याद रखना बेहतर होगा कि सभी सफल व्यवसाय नैतिकता की नींव पर आधारित होते हैं।”- हैनरी वार्ड बीचरI

240.0        “इस धरा पर जैसा कोई विषय नहीं जो अरुचिकर हो; यदि ऐसा कुछ है तो वह एक बेसरोकार व्यक्ति ही हो सकता है।”- जी.के.चेस्टरटन I

241.0        “मानवता के दिशा में उठाया गया प्रत्येक कदम आपकी स्वयं की चिंताओं को कम करने में मील का पत्थर साबित होगा।”- स्वामी श्री सुदर्शनाचार्य जी I

242.0        “यदि आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप हमेशा न जीतने का बहाना खोज लेंगे।”- कार्ल लेविस I

243.0        “इस दुनिया में जो कुछ हम अर्जित करते हैं, उससे नहीं अपितु जो कुछ त्याग करते हैं, उससे समृद्ध बनते हैं।”- हैनरी वार्ड बीचर I

244.0        “अधिकांश सफल व्यक्ति जिन्हें मैं जानता हूं वे ऐसे व्यक्ति हैं जो बोलते कम और सुनते ज्यादा हैं।”-बर्नार्ड एम. बारूच I

245.0        “प्रत्येक समस्या अपने साथ आपके लिए एक उपहार लेकर आती है।”-रिचर्ड बैक I

246.0        “मुझे काफी समय पहले ही पता लग गया था कि यदि मैं लोगों की उनकी चाहतों को पूरा करने में सहायता करता हूं तो मुझे हमेशा वह सब मिल जाएगा जो मैं चाहता था और मुझे कभी भी चिंता नहीं करनी पड़ेगी।”- एंथनी राबिन्स I

247.0        “अपने मित्र को उसके दोषों को बताना मित्रता की सबसे कठोर परीक्षा होती है।”- हैनरी वार्ड बीचर I

248.0        “"सभी से प्रेम करें, कुछ पर विश्वास करें और किसी के साथ भी गलत न करें।"” - विलियम शेक्सपियर I

249.0        “ग्राहक हमारे लिए एक विशिष्ट अतिथि है। वह हम पर निर्भर नहीं है। हम ग्राहक पर निर्भर हैं। वह हमारे कार्य में व्यवधान नहीं है - बल्कि वह इसका उद्देश्य है। हम ग्राहक की सेवा कर कोई उपकार नहीं कर रहे। वह सेवा का मौका देकर हम पर उपकार कर रहा है।”- महात्मा गांधी I

250.0        “धन को बरबाद करें तो आप केवल निर्धन होते हैं, लेकिन समय को बरबाद करते हैं तो आप जीवन का एक हिस्सा गंवा देते हैं।”- मिशेल लेबोएफ I

251.0        “जीवन के प्रति आपका रुख निश्चित करता है जीवन का आपके प्रति रुख।”- जॉन एन. मिशेल I

252.0        “सफल विवाह वह नहीं है जिसमें ‘सर्वगुण सम्पन्न जोड़ा’विवाहसूत्र में बंधता है। सफल विवाह वह है जिसमें पति-पत्नी एक दूसरे के मतभेदों में खुशी ढूंढ लेते हैं। ” -डेव मेयूरर

253.0        “यदि कोई व्यक्ति धन के प्रति अपनी सोच या रवैये को ठीक कर लेता है, इससे उसके जीवन में लगभग हर दूसरे पहलू को ठीक करने में सहायता मिलती है।”- बिल्ली ग्राहम I

254.0        “जो व्यक्ति दूसरों की भलाई चाहता है, वह अपनी भलाई को सुनिश्चित कर चुका होता है।”- कंफ्यूशियस I

255.0        “धन से आज तक किसी को खुशी नहीं मिली और न ही मिलेगी। जितना अधिक व्यक्ति के पास धन होता है, वह उससे कहीं अधिक चाहता है। धन रिक्त स्थान को भरने के बजाय शून्यता को पैदा करता है।”- बेंजामिन फ्रेंकलिन I

256.0        “जीवन में दो मूल विकल्प होते हैं: स्थितियों को उसी रूप में स्वीकार करना जैसी वे हैं, या उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करना।”- डेनिस वेटले I

257.0        “एक सफल व्यक्ति ऐसा व्यक्ति होता है जो अपने लक्ष्य पर निरन्तर नजर बनाए रखता है और इसके लिए अडिग रहता है। इसे समर्पण कहा जाता है।”- सेसिल बी. डेमिल्ले I

258.0        “हम अपने कार्यों के परिणाम का निर्णय करने वाले कौन हैं? यह तो भगवान का कार्यक्षेत्र है। हम तो एकमात्र कर्म करने के लिए उत्तरदायी हैं।”- गीता I

259.0        “अपने सकारात्मक विचारों को ईमानदारी और बिना थके हुए कार्यों में लगाए और आपको सफलता के लिए प्रयास नहीं करना पड़ेगा, अपितु अपरिमित सफलता आपके कदमों में होंगी।”- अज्ञात I

260.0        “जो व्यक्ति धन गंवाता है, बहुत कुछ खो बैठता है; जो व्यक्ति मित्र को खो बैठता है, वह उससे भी कहीं अधिक खोता है, लेकिन जो अपने विश्वास को खो बैठता है, वह व्यक्ति अपना सर्वस्व खो देता है।”- एलेयानोर I

261.0        “आप मृत्यु के उपरांत अपने साथ अपने अच्छे-बुरे कर्मों की पूंजी साथ ले जाएंगे। इसके अलावा आप कुछ साथ नहीं ले जा सकते।।।याद रखें “कुछ नहीं”।।।”- स्वामी श्री सुदर्शनाचार्य जी I

262.0        “यदि बार-बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप कुछ आविष्कारक काम भी नहीं कर रहे हैं।”-वुडी एल्लेन I

263.0        “असफलता का मौसम, सफलता के बीज बोने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय होता है।”- परमहंस योगानंद I

264.0        “सफल व्यक्ति होने का प्रयास न करें, अपितु गरिमामय व्यक्ति बनने का प्रयास करें।”- अल्बर्ट आईंसटीन I

265.0        “सम्मान रहित सफलता नमक रहित भोजन की तरह होती है; इससे आपकी भूख तो मिट जाएगी, लेकिन यह स्वादिष्ट नहीं लगेगी।”- जो पैटेर्नो I

266.0        “यदि आपको सफलता की अपेक्षा है तो इसका लक्ष्य न बनाएं; अपितु वही करें जो आपको प्रिय है और विश्वास रखें और स्वाभाविक रूप से आप इसे हासिल कर सकेगें।”- डेविड फ्रास्ट I

267.0        “सफल होने के लिए आपको असफलता का स्वाद अवश्य चखना चाहिए, ताकि आपको यह पता चल सके कि अगली बार क्या नहीं करना है।”- एंथनी जे. डीएंजेलो I

268.0        “सफलता का कोई रहस्य नहीं हैं। यह तैयारी, कड़ी मेहनत और असफलता से सीखने का ही परिणाम होता है।”- जन. कोलिन एल. पावेल I

269.0        “मैं अपने जीवन में बार बार असफल रहा हूं। और मैं इसी कारण से सफल होता हूं।”- मिशेल जोर्डन I

270.0        “आपकी प्रतिभा, आपको भगवान का दिया गया उपहार है। आप इसके साथ क्या करते हैं, यह आपके द्वारा भगवान को दिया गया उपहार होता है।”- लियो बुसकैजलिया I

271.0        “समस्या से बचने के लिए प्रार्थना न करें। अपनी सहज भावनाओं के लिए भी प्रार्थना न करें। प्रत्येक स्थिति में भगवान की मर्जी का पालन करने के लिए प्रार्थना करें। इससे अलावा किसी अन्य प्रार्थना का कोई मूल्य नहीं है।”- सेम्यूल एम. शूमेकर I

272.0        “मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है।”- दलाई लामा I

273.0        “आप अपने भगवान के सामर्थ्य को अपनी चिंताओं की सूची के आकार को देखकर बता सकते हैं। जितनी लंबी सूची होगी, उतना ही आपके भगवान का सामर्थ्य कम होगा।”- अज्ञात I

274.0        “आप पूछते हैं: जीवन का उद्देश्य और अर्थ क्या है? मैं इसका उत्तर केवल एक अन्य प्रश्न से दे सकता हूं: क्या आपके विचार से हम भगवान की सोच को समझने के लिए पर्याप्त बुद्धिमत्ता रखते हैं? ”- फ्रीमैन डायसन I

275.0        “हर सुबह मैं पंद्रह मिनट अपने मस्तिष्क में प्रभु की भावनाओं को समाहित करता हूं; और इस प्रकार से चिंता के लिए इसमें कोई स्थान रिक्त नहीं रहता है।”- हॉवर्ड शैंडलर क्रिस्टी I

276.0        “मेरे विचार से आप प्रतिदिन दो में से कोई एक काम करते हैं: स्वास्थ्य वर्धन करना या अपने शरीर में रोग पैदा करना।”- एडेल्लेय I

277.0        “स्वास्थ्य की हानि होने पर न तो प्रेम, न ही सम्मान, न ही धन-दौलत और न ही बल द्वारा हृदय को खुशी मिल सकती है।”- जॉन गे I

278.0        “धनवान बनने के लिए अपने स्वास्थ्य को कभी जोखिम में न डालें। क्योंकि यह सच है कि स्वास्थ्य समस्त सम्पत्तियों में से श्रेष्ठ सम्पत्ति है।”- रिचर्ड बेकर I

279.0        “स्वास्थ्य वह मूल तत्व है जो जीवन की सारी खुशियों को जीवंत बनाता है और स्वास्थ्य के बिना वे सभी नष्ट और नीरस होती हैं।”- विलियम टैम्पल I

280.0        “समय और स्वास्थ्य दो बहुमूल्य सम्पत्तियां हैं जिनकी पहचान तथा मूल्य हम उस समय तक नहीं समझते जब तक उनका नाश नहीं हो चुका होता है।”- डेनिस वेटले I

281.0        “यदि आपके पास स्वास्थ्य है तो संभवतः आप प्रसन्न होंगे, और यदि आपके पास स्वास्थ्य और प्रसन्नता दोनों हैं, तो आपके पास अपनी आवश्यकता के अनुसार समस्त सम्पदा होगी फिर चाहे आप इसे न भी चाहते हों।”- एल्बर्ट हुब्बार्ड I

282.0        “यदि आप बार-बार शिकायत नहीं करते हैं तो आप किसी भी कठिनाई को दूर कर सकते हैं।”- बर्नार्ड एम. बारूच I

283.0        “सीखने से मस्तिष्क कभी नहीं थकता है।”- लियोनार्डो दा विंची I

284.0        “बिना उत्साह के आज तक कुछ भी महान उपलब्धि हासिल नहीं की गई है।”- राल्फ वाल्डो एमर्सन I

285.0        “उस व्यक्ति को आलोचना करने का अधिकार है जो सहायता करने की भावना रखता है।”- अब्राहम लिंकन I

286.0        “श्रेष्ठ व्यक्ति बोलने में संयमी होता है लेकिन अपने कार्यों में अग्रणी होता है।”- कंफ्यूशियस I

287.0        “अपने चरित्र में सुधार करने का प्रयास करते हुए, इस बात को समझें कि क्या काम आपके बूते का है और क्या आपके बूते से बाहर है। ”- फ्रांसिस थामसन I

288.0        “स्थितियां कैसी भी क्यों न हों, मैं अभी भी आनन्दमग्न और खुश रहने के लिए प्रतिबद्ध हूं; क्योंकि मैंने अनुभव से यह सीखा है कि हमारी खुशियों और दुखों बड़ा हिस्सा हमारी सोच पर निर्भर करता है न कि हमारी परिस्थितियों पर।”- मार्था वाशिंगटन I

289.0        “भाग्य संयोग का विषय नहीं है। यह चयन का विषय है। यह कोई ऐसी वस्तु नहीं है जिसके लिए प्रतीक्षा की जाए; यह तो वह वस्तु है जिसे प्राप्त किया जाना चाहिए।”- विलियम जेन्निंग्स ब्रायन I

290.0        “वे हमेशा यह कहते हैं कि समय के साथ साथ परिस्थितियां बदल जाती हैं, लेकिन वास्तव में उन्हें आपको स्वयं ही बदलना होता है।”- एन्डी वार्होल I

291.0        “समझदार व्यक्ति अपनी स्वयं की दिशा का अनुपालन करते हैं।”- यूरिपेडेस I

292.0        “अच्छे विचारों को स्वतः ही नहीं अपनाया जाता है। उन्हें पराक्रमयुक्त धैर्य के साथ व्यवहार में लाया जाना चाहिए।”- हायमैन रिकओवर I

293.0        “गलतियां खोज का स्रोत होती हैं।”- जेम्स जोयसI

294.0        “अपनी खुशियों के प्रत्येक क्षण का आनन्द लें; ये वृद्धावस्था के लिए अच्छा सहारा साबित होते हैं।”- क्रिस्टोफर मोर्ले I

295.0        “यदि आपने अपने जीवन की महानतम सफलता को प्राप्त करने की प्रक्रिया में किसी के दिल को ठेस पहुंचाई हैं तो आपको स्वयं को सर्वाधिक असफल व्यक्ति मानना चाहिए।”- अज्ञात I

296.0        “अज्ञानता और विचारहीनता मानवता के विनाश के दो सबसे बड़े कारण हैं।”- जॉन टिलोटसन I

297.0        “जब भी आपको हंसने का अवसर मिले, तो हंसे। यह एक सुलभ दवा है।”- लार्ड ब्रायन I

298.0        “ऐसे दो मुख्य पाप हैं जिनसे अन्य सभी पापों की उत्पत्ति होती है: अधीरता और आलस्य।”- फ्रेंक काफ्का I

299.0        “कोई छोटी-छोटी योजनाएं न बनाएं; उनमें मनुष्य को प्रेरित करने का कोई जादु नहीं समाया होता।।।।। बड़ी योजनाएं बनाएं, उच्च आशा रखें और काम करें।”-डैनियल एच. बर्नहम I

300.0        “साहस और दृढ़ निश्चय जादुई तावीज़ हैं जिनके आगे कठिनाईयां दूर हो जाती हैं और बाधाएं उड़न-छू हो जाती है। ”- जॉन क्विंसी एडम्स I

301.0        “हर बात में धीरज रखें, विशेषकर अपने आप से। अपनी कमियों को लेकर धैर्य न खोएं अपितु तुरन्त उनका समाधान करना शुरू करें – हर दिन कर्म की नई शुरुआत है। ”- सेन्ट फ्रांसिस दे सेल्स I

302.0        “मैं अपने जीवन को एक पेशा नहीं मानता। मैं कर्म में विश्वास रखता हूं। मैं परिस्थितियों से शिक्षा लेता हूं। यह पेशा या नौकरी नहीं है - यह तो जीवन का सार है। ” - स्टीव जॉब्स, संस्थापक, एप्पल I

303.0        “सत्य से प्यार करें और गलती को क्षमा कर दें।”- वोल्टेयर I

304.0        “हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं।”- मार्टिन लुथर किंग, जूनियर I

305.0        “जिंदगी का मेरा सूत्र बहुत ही सरल है। मैं सुबह जागता हूं तथा रात को सो जाता हूं। इसके बीच में मैं जितना हो सके स्वयं को व्यस्त रखता हूं।”- केरी ग्रांट I

306.0        “लम्बी आयु का महत्व नहीं है जितना महत्व इसकी गहनता है।”- राल्फ वाल्डो एमर्सन I

307.0        “मैं जीवन से प्यार करता हूं क्योंकि इसके अलावा और है ही क्या। ”- एंथनी हाप्किन्स I

308.0        “अपने सपनों को साकार करने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है कि आप जाग जाएं। ”- पॉल वैलेरी I

309.0        “पूरा जीवन एक अनुभव है। आप जितने अधिक प्रयोग करते हैं, उतना ही इसे बेहतर बनाते हैं।”- राल्फ वाल्डो एमर्सन I

310.0        “ऐसा व्यक्ति जो एक घंटे का समय बरबाद करता है, उसने जीवन के मूल्य को समझा ही नहीं है।”- चार्ल्स डारविन I

311.0        “जिंदगी का मेरा सूत्र बहुत ही सरल है। मैं सुबह जागता हूं तथा रात को सो जाता हूं। इसके बीच में मैं जितना हो सके स्वयं को व्यस्त रखता हूं।”- केरी ग्रांट I

312.0        “हमारे जीवन का उस दिन अंत होना शुरू हो जाता है जिस दिन हम उन विषयों के बारे में चुप रहना शुरू कर देते हैं जो मायने रखते हैं।”-  मार्टिन लुथर किंग, जूनियर I

313.0        “मिलझुल कर काम करने के साथ खास बात यह है कि आपके पक्ष में हमेशा और भी लोग होते हैं।”- मार्गरेट कार्टी I

314.0        “अपनों में दूसरों की रुचि जगाने का प्रयास कर आप जितने मित्र दस वर्षों में बना सकतें हैं, उससे कहीं अधिक मित्र आप दूसरों में अपनी रुचि दिखा कर एक माह में बना सकते हैं।”- चार्ल्स ऐलन I

315.0        “मित्र वे दुर्लभ लोग होते हैं जो हमारा हालचाल पूछते हैं और उत्तर सुनने को रुकते भी हैं।”- एड कनिंघम I

316.0        “मैंने पाया है कि सुख लगभग हर बार कठोर श्रम की प्रतिक्रिया ही होता है।”- डेविड ग्रेसन I

317.0        “मन जो स्नेह संजो सकता है उन में से सबसे पवित्र है किसी नौ वर्षीय का निश्छल प्रेम।”- होलमैन डेI

318.0        “The purest affectIon the heart can hold Is the honest love of a nIne-year-old.”

319.0         

320.0        Holman Day

321.0        “मन जो स्नेह संजो सकता है उन में से सबसे पवित्र है किसी नौ वर्षीय का निश्छल प्रेम।”- होलमैन डे I

322.0        “मेरा दृष्टिकोण तो यह है कि आप इंद्रधनुष चाहते हैं तो आप को वर्षा सहन करनी ही होगी।”- डॉली पार्टन I

323.0        “अपना हाथ आगे बढ़ाने से कभी मत हिचकिए| दूसरे का आगे बढ़ा हाथ थामने से भी कभी मत हिचकिए।”- पोप जॉन त्रयोदश I

324.0        “हम जिस चीज़ की तलाश कहीं और कर रहे होते हैं वह हो सकता है कि हमारे पास ही हो।”- हारवी कॉक्स I

325.0        “आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आप को कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।”- एबिगैल वैन ब्यूरेनI

326.0        “अकेलापन निर्धनता की पराकाष्ठा है।”- एबिगैल वैन ब्यूरेन I

327.0        “जो सब की प्रशंसा करता है, वह किसी की प्रशंसा नहीं करता।”- सैमुअल जॉनसन I

328.0        “ऐसा व्यक्ति जो मानव के हृदय में साहस बोता है, वह सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक होता है।”- कार्ल वोन नेबेल I

329.0        “आप जिस कार्य को कर रहे हैं उस पर पूरे मनोयोग से ध्यान केंद्रित करें। सूर्य की किरणों से उस समय तक अग्नि प्रज्जवलित नहीं होती है जब तक उन्हें केन्द्रित नहीं किया जाता है।-अलेक्जेंडर ग्राहम बैल I

330.0        “मेरी खुशामद करें तो मैं शायद आप पर विश्वास नहीं करूंगा। मेरी आलोचना करें, तो मैं शायद आपको पसंद नहीं करूंगा। मुझे अनदेखा करें, तो शायद मैं आपको माफ नहीं करूंगा। मुझे प्रोत्साहित करें, तो मैं आपको कभी भुला नहीं सकूँगा।”- विलियम आर्थर वार्ड I

331.0        “रोशनी फैलाने के दो तरीके हैं: या तो दीपक बन जाएं या उसे प्रतिबिम्बित करने वाला दर्पण।”-  एडिथ व्होर्टन, उपन्यासकार (1862-1937)I

332.0        “आत्मविश्वास हमेशा सही होने से नहीं आता, बल्कि गलत होने का डर न होने से आता है।”- अज्ञातI

333.0        “पहले वे आप को नज़रअंदाज़ करते हैं। उसके बाद वे आप पर हँसते हैं। फिर वे आप से लड़ते हैं। और उसके बाद आप जीत जाते हैं।”- महात्मा गांधी I

334.0        “अगर अवसर दस्तक न दे, तो स्वयं ही द्वार बना ले।”-  मिल्टन बेरलेI

335.0        “हम अगर किसी चीज़ की कल्पना कर सकते हैं तो उसे साकार भी कर सकते हैं।”- नेपोलियन हिल I

336.0        “जिसके पास स्वास्थ्य है, उसके पास आशा है तथा जिसके पास आशा है, उसके पास सब कुछ है।”- अरबी कहावत I

337.0        “प्रतिभा का विकास शांत वातावरण में होता है, और चरित्र का विकास मानव जीवन के तेज प्रवाह में।”- जोहेन वोल्फगैंग वॉन गोएथ, कवि, नाटककार, उपन्यासकार और दार्शनिक (1749-1832) I

338.0        “इंटरनेट पर जो आपको मिल रहा हो वह अगर मुफ्त का है, तो ऐसे में आप ग्राहक नहीं, बल्कि आप खुद एक उत्पाद हैं।”- जोनाथन जिट्ट्रेन I

339.0        “मित्रों की असली मदद हमारी उतनी मदद नहीं करती जितना कि यह विश्वास कि वे जरूरत में हमारी मदद करेंगे।”- एपिक्यूरस, दार्शनिक I

340.0        “कई सारी कल्पनाएँ करना ही एक अच्छी कल्पना कर पाने का सर्वोत्तम तरीका है।”- लिनस पौलिंग, रसायनशास्त्री (1901-1994) I

341.0        “सबसे प्रेम का बर्ताव करें, कुछ एक पर भरोसा करें, और किसी का बुरा न करें।”- विलियम शेक्सपियर, नाटककार और कवि (1564-1616) I

342.0        “जल्दबाज़ी में पढ़ना उतना ही गलत है जितना जल्दबाज़ी में खाना।”- विल्हेल्म एकलून्ड, कवि (1880-1949) I

343.0        “हम वही हैं जो हम बारंबार करते हैं। इसलिए, उत्कृष्टता कोई एक बार का कर्म नहीं है, बल्कि एक आदत है।”- अरस्तू I

344.0        “अगर किसी को अपने कर्म में सुखी होना है, तो इन तीन चीजों की आवश्यकता है: वे उसके लिए उपयुक्त हों; वे इसकी अति न करें; और उन्हें इस कर्म में सफलता का आभास हो।”- जॉन रस्किन I

345.0        “हमारी हर नई संपत्ति हम पर एक नया बोझ डाल देती है।”- जॉन रस्किन I

346.0        “मुझे सफलता का उपाय नहीं मालूम लेकिन यह मालूम है कि सब को खुश करने का प्रयत्न असफलता का उपाय है.” - बिल कोस्बी I

347.0        “कल्पना के उपरांत उद्यम अवश्य किया जाना चाहिए। सीढ़ियों को देखते रहना ही पर्याप्त नहीं है - सीढ़ियों पर चढ़ना आवश्यक है।”- वैन्स हैवनेर I

348.0        “अपना जीवन जीने के केवल दो ही तरीके हैं. पहला यह मानना कि कोई चमत्कार नहीं होता है. दूसरा है कि हर वस्तु एक चमत्कार है.” - अल्बर्ट आईन्सटीन I

349.0        “अज्ञानता और विचारहीनता मानवता के विनाश के दो सबसे बड़े कारण हैं।”- जॉन टिलोटसन I

350.0        “असफलता का मौसम, सफलता के बीज बोने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय होता है.”- परमहंस योगानंद I

351.0        “लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित कर पाना ही सफ़लता का एक अति महत्वपूर्ण सूत्र है.”- थियोडोर रूसवेल्ट I

352.0        “विवाह एक ढका हुआ पकवान है।”- स्विस कहावत I

353.0        “किसी मूर्ख व्यक्ति की पहचान उसके वाचालता से होती है, तथा बुद्धिमान व्यक्ति की पहचान उसके मौन रहने से होती है.” – पाइथागोरस I

354.0        “किसी मूर्ख व्यक्ति की पहचान उसके वाचालता से होती है, तथा बुद्धिमान व्यक्ति की पहचान उसके मौन रहने से होती है.”- पाइथागोरस I

355.0        “जो सोचता है कर पाएगा वह कर पाता है, और जो नहीं कर पाने की सोचता है वह नहीं कर पाता। यह एक अनवरत निर्विवाद नियम है।”- पेबलो पिकासो I

356.0        “नेतृत्व करने वालों के शब्दकोशों में असंभव शब्द नहीं होता। कितनी ही बड़ी चुनौतियां क्यों न हों, मजबूत विश्वास, इरादे और संकल्प से उन्हें निपटा जा सकता है।”- शेख मोहम्मद बिन रशीद अल मक्तौम I

357.0        “शुरू में वह कीजिए जो आवश्यक है, फिर वह जो संभव है और अचानक आप पाएंगे कि आप तो वह कर रहे हैं जो असंभव की श्रेणी में आता है।”- असीसी के संत फ़्रांसिस (११८२-१२२६), इतालवी साधु I

358.0        “आप जो सोचते हैं, आप जो कहते हैं, और आप जो करते हैं, इनमें तालमेल होना ही सुखी होना है।”- महात्मा गांधी I

359.0        सात बार गिरें, आठ बार उठ खड़े हों।”- जापान की कहावत I

360.0        “बुद्धिमान व्यक्ति दूसरों की गलतियों से सीखता है।”- पुब्लिलियस सायरस I

361.0        “वहां नहीं जाएं जहां राह ले जाये, वहां जाएं जहां कोई राह न हो और अपनी छाप छोड़ जाएं।”- राल्फ वाल्डो इमर्सन I

362.0        “सौन्दर्य पहली नज़र में तो अच्छा है; लेकिन घर में आने के तीन दिन के बाद इसे कौन पूछता है?” - जॉर्ज बरनार्ड शॉ I

363.0        “खुश रहने का मतलब यह नहीं कि सब कुछ उत्तम है। इसका मतलब है कि आपने कमियों से ऊपर उठने का निर्णय कर लिया है।”- अज्ञात I

364.0        “अगर मैं प्रयत्न करना बन्द कर दूं तो मैं अपने आप को क्षमा नहीं कर पाऊंगा।”- एडेल I

365.0        “दुनिया की ज़्यादातर महत्त्वपूर्ण चीजें उन लोगों द्वारा प्राप्त की गई हैं जो किसी उम्मीद के न होने के बावजूद अपने प्रयास में अनवरत लगे रहे। ”- डेल कार्नेगीI

366.0        “क्या आप ज़िन्दगी से ऊब चुके हैं? तो स्वयं को ऐसे काम में झोंक दें जिसमें आप दिल से यकीन रखते हों, उसके लिए जिएँ, उसके लिए मरें, और आप ऐसी खुशी पाएंगें जो आप सोचते थे कि कभी आपको नहीं मिल सकती है। ” -डेल कार्नेगी I

367.0        “एक रचनाशील व्यक्ति कुछ पाने की इच्छा से प्रेरित होता है न कि अन्य लोगों को हराने की इच्छा से। ” - ऐन रेण्ड I

368.0        “आपको शिक्षकों से मदद मिल सकती है, लेकिन आपको बहुत कुछ अपने आप ही सीखना होगा, किसी कमरे में अकेले बैठ कर। ” - डॉ स्युस I

369.0        “मैंने अपने कैरियर में 9000 से अधिक निशाने खोए हैं। मैंने लगभग 300 खेल हारे हैं। 26 बार मुझे जीत दिलाने वाले निशाने लगाने का जिम्मा दिया जो मैंने चूक दिए। मैंने अपने जीवन में बार-बार विफल रहा हूं। और यही कारण है कि सफल होता हूं।”- माइकल जॉर्डन I

370.0        “आम सवाल जो कारोबार में पूछा जाता है, ‘क्यों?’ वह एक अच्छा सवाल है, लेकिन एक उतना ही सटीक सवाल है, ‘क्यों नहीं?'” - जेफरी बेज़ोस I

371.0        “आपका समय सीमित है, इसलिए इसे किसी और की जिंदगी जीने में बर्बाद न करें।”- स्टीव जॉब्स I

372.0        “जंगल में दो राहें अलग हुईं, और मैंने कम सफ़र की जाने वाली चुनी, और उससे ही सारा फ़र्क पड़ा है।”- रॉबर्ट फ्रॉस्ट I

373.0        “मनुष्य का मन जिस की भी कल्पना और जिस में भी विश्वास कर सकता हैं, उसे प्राप्त भी कर सकता है। ”- नेपोलियन हिल I

374.0        “जिस क्षण आप यह संदेह करते हैं कि आप उड़ सकते हैं या नहीं, आप हमेशा के लिए ऐसा कर पाने की क्षमता खो देते हैं। ”- जे एम बेरी, पीटर पैन I

375.0        “केवल दिल ही है जिससे कोई ठीक से देख सकता है; जो आवश्यक है वह आंखों के लिए अदृश्य है। ”- एंटोइन डि सैंन्ट-एक्सुपरि, फ्रांसीसी लेखक (1900-1944) I

376.0        “एक दिन कितना अच्छा होता है? जितना अच्छे से आप उसे गुज़ारते हैे। एक मित्र में कितना प्रेम होता है? निर्भर करता है आप उन्हें कितना देते हैं। ” - शेल सिल्वरस्टाइन I

377.0        “आपके विचार अच्छे हों, तो वे आपके चेहरे से सूरज की किरणों की तरह चमकेंगे और आप हमेशा खूबसूरत दिखेंगी। ” - रोआल्ड डाह्ल I

378.0        “आपके पास दिमाग है। आपके जूतों में पैर हैं। आप जिस ओर चाहें जा सकते हैं। आप अपने दम पर हैं। अौर आप ही जानते हैं जो आप जानते हैं। और आप ही हैं जो यह निर्णय करेंगे कि जाना कहां है...” -डॉ स्यूस I

379.0        “करुणा का कोई भी कार्य, भले कितना ही छोटा क्यों न हो, कभी व्यर्थ नहीं जाता। ” – ईसोप I

380.0        “अपनी सामर्थ्य का पूर्ण विकास न करना दुनिया में सबसे बड़ा अपराध है. जब आप अपनी पूर्ण क्षमता के साथ कार्य निष्पादन करते हैं, तब आप दूसरों की सहायता करते हैं.” I - रोजर विलियम्स I

381.0        “यदि आप तर्क करते हैं तो अपने मिज़ाज (गुस्से) का ध्यान रखें। आपका तर्क, यदि आपके पास कोई है, स्वयं इसकी देखभाल कर लेगा।”- जोसेफ फेर्रेल I

382.0        “छोटी बुराई को अपने पास न आने दें क्योंकि अन्य बड़ी बुराईयां सुनिश्चित रूप से इसके पीछे-पीछे आती हैं।”- बाल्टासार ग्रेसिय I

383.0        “जीवन में दुखद बात यह है कि हम बड़े दो जल्दी हो जाते हैं, लेकिन समझदार देर से होते हैं।”- बेंजामिन फ्रेंकलिन I

384.0        “बुद्धिमान व्यक्तियों की सलाह की आवश्यकता नहीं होती है। मूर्ख लोग इसे स्वीकार नहीं करते हैं।”- बेंजामिन फ्रेंकलिन I

385.0        “मछली पकड़ने तो हर रोज जाया जा सकता है, लेकिन हर रोज मछली पकड़ में आ जाए ऐसा नहीं होता है। ” – अज्ञात I

386.0        “अच्छा निर्णय अनुभव से प्राप्त होता है लेकिन दुर्भाग्यवश, अनुभव का जन्म अक्सर खराब निर्णयों से होता है।”- रीटा माए ब्राउन I

387.0        “भविष्य उनका है जो अपने सपनों की सुंदरता में यकीन करते हैं।”- एलेअनोर रूज़वेल्ट I

388.0        “हालांकि कोई भी व्यक्ति अतीत में जाकर नई शुरुआत नहीं कर सकता है, लेकिन कोई भी व्यक्ति अभी शुरुआत कर सकता है और एक नया अंत प्राप्त कर सकता है।”- कार्ल बार्ड I

389.0        “जीवन में अनेक विफलताएं केवल इसलिए होती हैं क्योंकि लोगों को यह आभास नहीं होता है कि जब उन्होंने प्रयास बन्द कर दिए तो उस समय वह सफलता के कितने करीब थे।”- थोमस एडिसन I

390.0        “छोटी छोटी बातों में आनन्द खोजना चाहिए, क्योंकि एक दिन ऐसा आएगा जब आप पिछले जीवन के बारे में सोचेगें तो यह पाएंगे कि वह कितनी बड़ी बातें थीं।”- राबर्ट ब्राउल्ट I

391.0        “गति और प्रगति में संदेह न करें। कोल्हू के बैल दिन भर चलते हैं लेकिन कोई प्रगति नहीं करते है।”- अल्फ्रेड ए. मोन्टापर्ट I

392.0        “यदि आपने हवाई किलों का निर्माण किया है तो आपका कार्य बेकार नहीं जाना चाहिए, हवाई किले हवा में ही बनाए जाते हैं। अब, उनके नीचे नींव रखने का कार्य करें।”- हैनरी डेविड थोरेयू I

393.0        “हममें से जीवन किसी के लिए भी सरल नहीं है। लेकिन इससे क्या? हम में अडिगता होनी चाहिए तथा इससे भी अधिक अपने में विश्वास होना चाहिए। हमें यह विश्वास होना चाहिए कि हम सभी में कुछ न कुछ विशेषता है तथा इसे अवश्य ही प्राप्त किया जाना चाहिए।”- मैरी क्यूरी I

394.0        “इस दुनिया में कोई भी महान व्यक्ति नहीं है, केवल महान चुनौतियां ही हैं, जिनका सामान्य व्यक्ति उठ कर सामना करते हैं।”- विलियम फ्रेडरिक हाल्से, जूनियर I

395.0        “महान कार्यों को पूरा करने के लिए न केवल हमें कार्य करना चाहिए बल्कि स्वप्न भी देखने चाहिए। न केवल योजना बनानी चाहिए, अपितु विश्वास भी करना चाहिए।”- एनोटोले फ्रांस I

396.0        “दूसरों की पुष्टि पर निर्भर करने की तुलना में स्वयं को जानने तथा स्वीकार करने- अपनी शक्तियों तथा अपनी सीमाओँ को जान लेने से वास्तविक विश्वास की उत्पत्ति होती है।”- जूडिथ एम. बार्डविक I

397.0        “प्रेरणा कार्य आरम्भ करने में सहायता करती है। आदत कार्य को जारी रखने में सहायता करती है।”- जिम रयून I

398.0        “मेरे अनुभव के अनुसार, केवल एक ही प्रेरणा होती है और वह है इच्छा।”-  जेन स्माईलीI

399.0        “एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।”- विसेंट जे. लोम्बार्डी I

400.0        “अवसर सूर्योदय की तरह होते हैं। यदि आप ज्यादा देर तक प्रतीक्षा करते हैं तो आप उन्हें गंवा बैठते हैं।”- विलियम आर्थर वार्ड I


अनमोल वचन (Precious words)

आचार्य चाणक्य के अनमोल विचार और कथन :-
Quote 1: ऋण, शत्रु और रोग को समाप्त कर देना चाहिए।
Quote 2: वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते है।
Quote 3: शत्रु की दुर्बलता जानने तक उसे अपना मित्र बनाए रखें।
Quote 4: सिंह भूखा होने पर भी तिनका नहीं खाता।
Quote 5: एक ही देश के दो शत्रु परस्पर मित्र होते है।
Quote 6: आपातकाल में स्नेह करने वाला ही मित्र होता है।
Quote 7: मित्रों के संग्रह से बल प्राप्त होता है।
Quote 8: जो धैर्यवान नहीं है, उसका न वर्तमान है न भविष्य।
Quote 9: संकट में बुद्धि ही काम आती है।
Quote 10: लोहे को लोहे से ही काटना चाहिए।
Quote 11: यदि माता दुष्ट है तो उसे भी त्याग देना चाहिए।
Quote 12: यदि स्वयं के हाथ में विष फ़ैल रहा है तो उसे काट देना चाहिए।
Quote 13: सांप को दूध पिलाने से विष ही बढ़ता है, न की अमृत।
Quote 14: एक बिगड़ैल गाय सौ कुत्तों से ज्यादा श्रेष्ठ है। अर्थात एक विपरीत स्वाभाव
का परम हितैषी व्यक्ति, उन सौ लोगों से श्रेष्ठ है जो आपकी चापलूसी करते
है।
Quote 15: कल के मोर से आज का कबूतर भला। अर्थात संतोष सब बड़ा धन है।
Quote 16: आग सिर में स्थापित करने पर भी जलाती है। अर्थात दुष्ट व्यक्ति का कितना भी सम्मान कर लें, वह सदा दुःख ही देता है।
Quote 17: अन्न के सिवाय कोई दूसरा धन नहीं है।
Quote 18: भूख के समान कोई दूसरा शत्रु नहीं है।
Quote 19: विद्या ही निर्धन का धन है।
Quote 20: विद्या को चोर भी नहीं चुरा सकता।

Quote 21: शत्रु के गुण को भी ग्रहण करना चाहिए।
Quote 22: अपने स्थान पर बने रहने से ही मनुष्य पूजा जाता है।
Quote 23: सभी प्रकार के भय से बदनामी का भय सबसे बड़ा होता है।
Quote 24: किसी लक्ष्य की सिद्धि में कभी शत्रु का साथ न करें।
Quote 25: आलसी का न वर्तमान होता है, न भविष्य।
Quote 26: सोने के साथ मिलकर चांदी भी सोने जैसी दिखाई पड़ती है अर्थात सत्संग का प्रभाव मनुष्य पर अवश्य पड़ता है।
Quote 27: ढेकुली नीचे सिर झुकाकर ही कुँए से जल निकालती है। अर्थात कपटी या पापी व्यक्ति सदैव मधुर वचन बोलकर अपना काम निकालते है।
Quote 28: सत्य भी यदि अनुचित है तो उसे नहीं कहना चाहिए।
Quote 29: समय का ध्यान नहीं रखने वाला व्यक्ति अपने जीवन में निर्विघ्न नहीं रहता।
Quote 30: जो जिस कार्ये में कुशल हो उसे उसी कार्ये में लगना चाहिए।
Quote 31: दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है।
Quote 32: किसी भी कार्य में पल भर का भी विलम्ब न करें।
Quote 33: चंचल चित वाले के कार्य कभी समाप्त नहीं होते।
Quote 34: पहले निश्चय करिएँ, फिर कार्य आरम्भ करें।
Quote 35: भाग्य पुरुषार्थी के पीछे चलता है।
Quote 36: अर्थ, धर्म और कर्म का आधार है।
Quote 37: शत्रु दण्डनीति के ही योग्य है।
Quote 38: कठोर वाणी अग्निदाह से भी अधिक तीव्र दुःख पहुंचाती है।
Quote 39: व्यसनी व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकता।
Quote 40: शक्तिशाली शत्रु को कमजोर समझकर ही उस पर आक्रमण करे।
Quote 41: अपने से अधिक शक्तिशाली और समान बल वाले से शत्रुता न करे।
Quote 42: मंत्रणा को गुप्त रखने से ही कार्य सिद्ध होता है।
Quote 43: योग्य सहायकों के बिना निर्णय करना बड़ा कठिन होता है।
Quote 44: एक अकेला पहिया नहीं चला करता।
Quote 45: अविनीत स्वामी के होने से तो स्वामी का न होना अच्छा है।
Quote 46: जिसकी आत्मा संयमित होती है, वही आत्मविजयी होता है।
Quote 47: स्वभाव का अतिक्रमण अत्यंत कठिन है।
Quote 48: धूर्त व्यक्ति अपने स्वार्थ के लिए दूसरों की सेवा करते हैं।
Quote 49: कल की हज़ार कौड़ियों से आज की एक कौड़ी भली। अर्थात संतोष सबसे बड़ा धन है।
Quote 50: दुष्ट स्त्री बुद्धिमान व्यक्ति के शरीर को भी निर्बल बना देती है।
Quote 51: आग में आग नहीं डालनी चाहिए। अर्थात क्रोधी व्यक्ति को अधिक क्रोध नहीं दिलाना चाहिए।
Quote 52: मनुष्य की वाणी ही विष और अमृत की खान है।
Quote 53: दुष्ट की मित्रता से शत्रु की मित्रता अच्छी होती है।
Quote 54: दूध के लिए हथिनी पालने की जरुरत नहीं होती। अर्थात आवश्कयता के अनुसार साधन जुटाने चाहिए।
Quote 55: कठिन समय के लिए धन की रक्षा करनी चाहिए।
Quote 56: कल का कार्य आज ही कर ले।
Quote 57: सुख का आधार धर्म है।
Quote 58: धर्म का आधार अर्थ अर्थात धन है।
Quote 59: अर्थ का आधार राज्य है।
Quote 60: राज्य का आधार अपनी इन्द्रियों पर विजय पाना है।
Quote 61: प्रकृति (सहज) रूप से प्रजा के संपन्न होने से नेताविहीन राज्य भी संचालित होता रहता है।
Quote 62: वृद्धजन की सेवा ही विनय का आधार है।
Quote 63: वृद्ध सेवा अर्थात ज्ञानियों की सेवा से ही ज्ञान प्राप्त होता है।
Quote 64: ज्ञान से राजा अपनी आत्मा का परिष्कार करता है, सम्पादन करता है।
Quote 65: आत्मविजयी सभी प्रकार की संपत्ति एकत्र करने में समर्थ होता है।
Quote 66: जहां लक्ष्मी (धन) का निवास होता है, वहां सहज ही सुख-सम्पदा आ जुड़ती है।
Quote 67: इन्द्रियों पर विजय का आधार विनर्मता है।

Quote 68: प्रकर्ति का कोप सभी कोपों से बड़ा होता है।
Quote 69: शासक को स्वयं योगय बनकर योगय प्रशासकों की सहायता से शासन करना चाहिए।
Quote 70: योग्य सहायकों के बिना निर्णय करना बड़ा कठिन होता है।
Quote 71: एक अकेला पहिया नहीं चला करता।
Quote 72: सुख और दुःख में सामान रूप से सहायक होना चाहिए।
Quote 73: स्वाभिमानी व्यक्ति प्रतिकूल विचारों कोसम्मुख रखकर दुबारा उन पर विचार करे।
Quote 74: अविनीत व्यक्ति को स्नेही होने पर भी मंत्रणा में नहीं रखना चाहिए।
Quote 75: शासक को स्वयं योग्य बनकर योग्य प्रशासकों की सहायता से शासन करना चाहिए।
Quote 76: सुख और दुःख में समान रूप से सहायक होना चाहिए।
Quote 77: स्वाभिमानी व्यक्ति प्रतिकूल विचारों को सम्मुख रखकर दोबारा उन पर विचार करे।
Quote 78: अविनीत व्यक्ति को स्नेही होने पर भी अपनी मंत्रणा में नहीं रखना चाहिए।
Quote 79: ज्ञानी और छल-कपट से रहित शुद्ध मन वाले व्यक्ति को ही मंत्री बनाए।
Quote 80: समस्त कार्य पूर्व मंत्रणा से करने चाहिए।
Quote 81: विचार अथवा मंत्रणा को गुप्त न रखने पर कार्य नष्ट हो जाता है।
Quote 82: लापरवाही अथवा आलस्य से भेद खुल जाता है।
Quote 83: सभी मार्गों से मंत्रणा की रक्षा करनी चाहिए।
Quote 84: मन्त्रणा की सम्पति से ही राज्य का विकास होता है।
Quote 85: मंत्रणा की गोपनीयता को सर्वोत्तम माना गया है।
Quote 86: भविष्य के अन्धकार में छिपे कार्य के लिए श्रेष्ठ मंत्रणा दीपक के समान प्रकाश देने वाली है।
Quote 87: मंत्रणा के समय कर्त्तव्य पालन में कभी ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए।
Quote 88: मंत्रणा रूप आँखों से शत्रु के छिद्रों अर्थात उसकी कमजोरियों को देखा-परखा जाता है।
Quote 89: राजा, गुप्तचर और मंत्री तीनो का एक मत होना किसी भी मंत्रणा की सफलता है।
Quote 90: कार्य-अकार्य के तत्वदर्शी ही मंत्री होने चाहिए।
Quote 91: छः कानो में पड़ने से (तीसरे व्यक्ति को पता पड़ने से) मंत्रणा का भेद खुल जाता है।

Quote 92: अप्राप्त लाभ आदि राज्यतंत्र के चार आधार है।
Quote 93: आलसी राजा अप्राप्त लाभ को प्राप्त नहीं करता।
Quote 94: आलसी राजा प्राप्त वास्तु की रक्षा करने में असमर्थ होता है।
Quote 95: आलसी राजा अपने विवेक की रक्षा नहीं कर सकता।
Quote 96: आलसी राजा की प्रशंसा उसके सेवक भी नहीं करते।
Quote 97: शक्तिशाली राजा लाभ को प्राप्त करने का प्रयत्न करता है।
Quote 98: राज्यतंत्र को ही नीतिशास्त्र कहते है।
Quote 99: राज्यतंत्र से संबंधित घरेलु और बाह्य, दोनों कर्तव्यों को राजतंत्र का अंग कहा जाता है।
Quote 100: राज्य नीति का संबंध केवल अपने राज्य को सम्रद्धि प्रदान करने वाले मामलो से होता है।
Quote 101: निर्बल राजा को तत्काल संधि करनी चाहिए।
Quote 102: पडोसी राज्यों से सन्धियां तथा पारस्परिक व्यवहार का आदान-प्रदान और संबंध विच्छेद आदि का निर्वाह मंत्रिमंडल करता है।
Quote 103: राज्य को नीतिशास्त्र के अनुसार चलना चाहिए।
Quote 104: निकट के राज्य स्वभाव से शत्रु हो जाते है।
Quote 105: किसी विशेष प्रयोजन के लिए ही शत्रु मित्र बनता है।
Quote 106: आवाप अर्थात दूसरे राष्ट्र से संबंध नीति का परिपालन मंत्रिमंडल का कार्य है।
Quote 107: दुर्बल के साथ संधि न करे।
Quote 108: ठंडा लोहा लोहे से नहीं जुड़ता।
Quote 109: संधि करने वालो में तेज़ ही संधि का हेतु होता है।
Quote 110: शत्रु के प्रयत्नों की समीक्षा करते रहना चाहिए।
Quote 111: बलवान से युद्ध करना हाथियों से पैदल सेना को लड़ाने के समान है।
Quote 112: कच्चा पात्र कच्चे पात्र से टकराकर टूट जाता है।
Quote 113: संधि और एकता होने पर भी सतर्क रहे।

Quote 114: शत्रुओं से अपने राज्य की पूर्ण रक्षा करें।
Quote 115: शक्तिहीन को बलवान का आश्रय लेना चाहिए।
Quote 116: दुर्बल के आश्रय से दुःख ही होता है।
Quote 117: अग्नि के समान तेजस्वी जानकर ही किसी का सहारा लेना चाहिए।
Quote 118: राजा के प्रतिकूल आचरण नहीं करना चाहिए।
Quote 119: व्यक्ति को उट-पटांग अथवा गवार वेशभूषा धारण नहीं करनी चाहिए।
Quote 120: देवता के चरित्र का अनुकरण नहीं करना चाहिए।
Quote 121: ईर्ष्या करने वाले दो समान व्यक्तियों में विरोध पैदा कर देना चाहिए।
Quote 122: चतुरंगणी सेना (हाथी, घोड़े, रथ और पैदल) होने पर भी इन्द्रियों के वश में रहने वाला राजा नष्ट हो जाता है।
Quote 123: जुए में लिप्त रहने वाले के कार्य पूरे नहीं होते है।
Quote 124: शिकारपरस्त राजा धर्म और अर्थ दोनों को नष्ट कर लेता है।
Quote 125: शराबी व्यक्ति का कोई कार्य पूरा नहीं होता है।
Quote 126: कामी पुरुष कोई कार्य नहीं कर सकता।
Quote 127: पूर्वाग्रह से ग्रसित दंड देना लोकनिंदा का कारण बनता है।
Quote 128: धन का लालची श्रीविहीन हो जाता है।
Quote 129: दण्डनीति के उचित प्रयोग से ही प्रजा की रक्षा संभव है।
Quote 130: दंड से सम्पदा का आयोजन होता है।
Quote 131: दण्डनीति के प्रभावी न होने से मंत्रीगण भी बेलगाम होकर अप्रभावी हो जाते है।
Quote 132: दंड का भय न होने से लोग अकार्य करने लगते है।
Quote 133: दण्डनीति से आत्मरक्षा की जा सकती है।
Quote 134: आत्मरक्षा से सबकी रक्षा होती है।
Quote 135: आत्मसम्मान के हनन से विकास का विनाश हो जाता है।
Quote 136: निर्बल राजा की आज्ञा की भी अवहेलना कदापि नहीं करनी चाहिए।
Quote 137: अग्नि में दुर्बलता नहीं होती।

Quote 138: दंड का निर्धारण विवेकसम्मत होना चाहिए।
Quote 139: दंडनीति से राजा की प्रवति अर्थात स्वभाव का पता चलता है।
Quote 140: स्वभाव का मूल अर्थ लाभ होता है।
Quote 141: अर्थ कार्य का आधार है।
Quote 142: धन होने पर अल्प प्रयत्न करने से कार्य पूर्ण हो जाते है।
Quote 143: उपाय से सभी कार्य पूर्ण हो जाते है। कोई कार्य कठिन नहीं रहता।
Quote 144: बिना उपाय के किए गए कार्य प्रयत्न करने पर भी बचाए नहीं जा सकते, नष्ट हो जाते है।
Quote 145: कार्य करने वाले के लिए उपाय सहायक होता है।
Quote 146: कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन जाता है।
Quote 147: अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।
Quote 148: कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है।
Quote 149: कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।
Quote 150: भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुखदायी हो जाता है।
Quote 151: अशुभ कार्यों को नहीं करना चाहिए।
Quote 152: समय को समझने वाला कार्य सिद्ध करता है।
Quote 153: समय का ज्ञान न रखने वाले राजा का कर्म समय के द्वारा ही नष्ट हो जाता है।
Quote 154: देश और फल का विचार करके कार्ये आरम्भ करें।
Quote 155: नीतिवान पुरुष कार्य प्रारम्भ करने से पूर्व ही देश-काल की परीक्षा कर लेते है।
Quote 156: परीक्षा करने से लक्ष्मी स्थिर रहती है।
Quote 157: सभी प्रकार की सम्पति का सभी उपायों से संग्रह करना चाहिए।
Quote 158: बिना विचार कार्ये करने वालो को भाग्यलक्ष्मी त्याग देती है।
Quote 159: ज्ञान अर्थात अपने अनुभव और अनुमान के द्वारा कार्य की परीक्षा करें।
Quote 160: उपायों को जानने वाला कठिन कार्यों को भी सहज बना लेता है।

Quote 161: सिद्ध हुए कार्ये का प्रकाशन करना ही उचित कर्तव्य होना चाहिए।
Quote 162: संयोग से तो एक कीड़ा भी स्तिथि में परिवर्तन कर देता है।
Quote 163: अज्ञानी व्यक्ति के कार्य को बहुत अधिक महत्तव नहीं देना चाहिए।
Quote 164: ज्ञानियों के कार्य भी भाग्य तथा मनुष्यों के दोष से दूषित हो जाते है।
Quote 165: भाग्य का शमन शांति से करना चाहिए।
Quote 166: मनुष्य के कार्ये में आई विपति को कुशलता से ठीक करना चाहिए।
Quote 167: मुर्ख लोग कार्यों के मध्य कठिनाई उत्पन्न होने पर दोष ही निकाला करते है।
Quote 168: कार्य की सिद्धि के लिए उदारता नहीं बरतनी चाहिए।
Quote 169: दूध पीने के लिए गाय का बछड़ा अपनी माँ के थनों पर प्रहार करता है।
Quote 170: जिन्हें भाग्य पर विश्वास नहीं होता, उनके कार्य पुरे नहीं होते।
Quote 180: प्रयत्न न करने से कार्य में विघ्न पड़ता है।
Quote 181: जो अपने कर्तव्यों से बचते है, वे अपने आश्रितों परिजनों का भरण-पोषण नहीं कर पाते।
Quote 182: जो अपने कर्म को नहीं पहचानता, वह अँधा है।
Quote 183: प्रत्यक्ष और परोक्ष साधनों के अनुमान से कार्य की परीक्षा करें।
Quote 184: निम्न अनुष्ठानों (भूमि, धन-व्यापार उधोग-धंधों) से आय के साधन भी बढ़ते है।
Quote 185: विचार न करके कार्ये करने वाले व्यक्ति को लक्ष्मी त्याग देती है।
Quote 186: परीक्षा किये बिना कार्य करने से कार्य विपत्ति में पड़ जाता है।
Quote 187: परीक्षा करके विपत्ति को दूर करना चाहिए।
Quote 188: अपनी शक्ति को जानकार ही कार्य करें।
Quote 189: स्वजनों को तृप्त करके शेष भोजन से जो अपनी भूख शांत करता है, वाह अमृत भोजी कहलाता है।
Quote 190: कायर व्यक्ति को कार्य की चिंता नहीं होती।
Quote 191: अपने स्वामी के स्वभाव को जानकार ही आश्रित कर्मचारी कार्य करते है।
Quote 192: गाय के स्वभाव को जानने वाला ही दूध का उपभोग करता है।
Quote 193: नीच व्यक्ति के सम्मुख रहस्य और अपने दिल की बात नहीं करनी चाहिए।

Quote 194: कोमल स्वभाव वाला व्यक्ति अपने आश्रितों से भी अपमानित होता है।
Quote 195: कठोर दंड से सभी लोग घृणा करते है।
Quote 196: राजा योग्य अर्थात उचित दंड देने वाला हो।
Quote 197: अगम्भीर विद्वान को संसार में सम्मान नहीं मिलता।
Quote 198: महाजन द्वारा अधिक धन संग्रह प्रजा को दुःख पहुँचाता है।
Quote 199: अत्यधिक भार उठाने वाला व्यक्ति जल्दी थक जाता है।
Quote 200: सभा के मध्य जो दूसरों के व्यक्तिगत दोष दिखाता है, वह स्वयं अपने दोष दिखाता है।
Quote 201: मुर्ख लोगों का क्रोध उन्हीं का नाश करता है।
Quote 202: सच्चे लोगो के लिए कुछ भी अप्राप्य नहीं।
Quote 203: केवल साहस से कार्य-सिद्धि संभव नहीं।
Quote 204: व्यसनी व्यक्ति लक्ष्य तक पहुँचने से पहले ही रुक जाता है।
Quote 205: असंशय की स्तिथि में विनाश से अच्छा तो संशय की स्तिथि में हुआ विनाश होता है।
Quote 206: दूसरे के धन पर भेदभाव रखना स्वार्थ है।
Quote 207: न्याय विपरीत पाया धन, धन नहीं है।
Quote 208: दान ही धर्म है।
Quote 209: अज्ञानी लोगों द्वारा प्रचारित बातों पर चलने से जीवन व्यर्थ हो जाता है।
Quote 210: न्याय ही धन है।
Quote 211: जो धर्म और अर्थ की वृद्धि नहीं करता वह कामी है।
Quote 212: धर्मार्थ विरोधी कार्य करने वाला अशांति उत्पन्न करता है।
Quote 213: सीधे और सरल व्तक्ति दुर्लभता से मिलते है।
Quote 214: निकृष्ट उपायों से प्राप्त धन की अवहेलना करने वाला व्यक्ति ही साधू होता है।
Quote 215: बहुत से गुणों को एक ही दोष ग्रस लेता है।
Quote 216: महात्मा को पराए बल पर साहस नहीं करना चाहिए।
Quote 217: चरित्र का उल्लंघन कदापि नहीं करना चाहिए।
Quote 218: विश्वास की रक्षा प्राण से भी अधिक करनी चाहिए।

Quote 219: चुगलखोर श्रोता के पुत्र और पत्नी उसे त्याग देते है।
Quote 220: बच्चों की सार्थक बातें ग्रहण करनी चाहिए।
Quote 221: साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं समझना चाहिए।
Quote 222: ज्ञानियों में भी दोष सुलभ है।
Quote 223: रत्न कभी खंडित नहीं होता। अर्थात विद्वान व्यक्ति में कोई साधारण दोष होने पर उस पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए।
Quote 224: मर्यादाओं का उल्लंघन करने वाले का कभी विश्वास नहीं करना चाहिए।
Quote 225: शत्रु द्वारा किया गया स्नेहिल व्यवहार भी दोषयुक्त समझना चाहिए।
Quote 226: सज्जन की राय का उल्लंघन न करें।
Quote 227: गुणी व्यक्ति का आश्रय लेने से निर्गुणी भी गुणी हो जाता है।
Quote 228: दूध में मिला जल भी दूध बन जाता है।
Quote 229: मृतिका पिंड (मिट्टी का ढेला) भी फूलों की सुगंध देता है। अर्थात सत्संग का प्रभाव मनुष्य पर अवशय पड़ता है जैसे जिस मिटटी में फूल खिलते है उस मिट्टी से भी फूलों की सुगंध आने लगती है।
Quote 230: मुर्ख व्यक्ति उपकार करने वाले का भी अपकार करता है। इसके विपरीत जो इसके विरुद्ध आचरण करता है, वह विद्वान कहलाता है।
Quote 231: मछेरा जल में प्रवेश करके ही कुछ पाता है।
Quote 231: राजा अपने बल-विक्रम से धनी होता है।
Quote 233: शत्रु भी उत्साही व्यक्ति के वश में हो जाता है।
Quote 234: उत्साहहीन व्यक्ति का भाग्य भी अंधकारमय हो जाता है।
Quote 235: पाप कर्म करने वाले को क्रोध और भय की चिंता नहीं होती।
Quote 236: अविश्वसनीय लोगों पर विश्वास नहीं करना चाहिए।
Quote 237: विष प्रत्येक स्तिथि में विष ही रहता है।
Quote 238: कार्य करते समय शत्रु का साथ नहीं करना चाहिए।
Quote 239: राजा की भलाई के लिए ही नीच का साथ करना चाहिए।
Quote 240: संबंधों का आधार उद्देश्य की पूर्ति के लिए होता है।
Quote 241: शत्रु का पुत्र यदि मित्र है तो उसकी रक्षा करनी चाहिए।
Quote 242: शत्रु के छिद्र (दुर्बलता) पर ही प्रहार करना चाहिए।
Quote 243: अपनी कमजोरी का प्रकाशन न करें।
Quote 244: एक अंग का दोष भी पुरुष को दुखी करता है।
Quote 245: शत्रु छिद्र (कमजोरी) पर ही प्रहार करते है।
Quote 246: हाथ में आए शत्रु पर कभी विश्वास न करें।
Quote 247: स्वजनों की बुरी आदतों का समाधान करना चाहिए।
Quote 248: स्वजनों के अपमान से मनस्वी दुःखी होते है।
Quote 249: सदाचार से शत्रु पर विजय प्राप्त की जा सकती है।
Quote 250: विकृतिप्रिय लोग नीचता का व्यवहार करते है।
Quote 251: नीच व्यक्ति को उपदेश देना ठीक नहीं।
Quote 252: नीच लोगों पर विश्वास नहीं करना चाहिए।
Quote 253: भली प्रकार से पूजने पर भी दुर्जन पीड़ा पहुंचाता है।
Quote 254: कभी भी पुरुषार्थी का अपमान नहीं करना चाहिए।
Quote 255: क्षमाशील पुरुष को कभी दुःखी न करें।
Quote 256: क्षमा करने योग्य पुरुष को दुःखी न करें।
Quote 257: स्वामी द्वारा एकांत में कहे गए गुप्त रहस्यों को मुर्ख व्यक्ति प्रकट कर देते हैं।
Quote 258: अनुराग अर्थात प्रेम फल अथवा परिणाम से ज्ञात होता है।
Quote 259: ज्ञान ऐश्वर्य का फल है।
Quote 260: मुर्ख व्यक्ति दान देने में दुःख का अनुभव करता है।
Quote 261: विवेकहीन व्यक्ति महान ऐश्वर्य पाने के बाद भी नष्ट हो जाते है।
Quote 262: धैर्यवान व्यक्ति अपने धैर्ये से रोगों को भी जीत लेता है।
Quote 263: गुणवान क्षुद्रता को त्याग देता है।
Quote 264: कमजोर शरीर में बढ़ने वाले रोग की उपेक्षा न करें।
Quote 265: शराबी के हाथ में थमें दूध को भी शराब ही समझा जाता है।
Quote 266: यदि न खाने योग्य भोजन से पेट में बदहजमी हो जाए तो ऐसा भोजन कभी नहीं करना चाहिए।
Quote 267: आवश्यकतानुसार कम भोजन करना ही स्वास्थ्य प्रदान करता है।
Quote 268: खाने योग्य भी अपथ्य होने पर नहीं खाना चाहिए।
Quote 269: दुष्ट के साथ नहीं रहना चाहिए।
Quote 270: जब कार्यों की अधिकता हो, तब उस कार्य को पहले करें, जिससे अधिक फल प्राप्त होता है।
Quote 271: अजीर्ण की स्थिति में भोजन दुःख पहुंचाता है।
Quote 272:रोग शत्रु से भी बड़ा है।
Quote 273: सामर्थ्य के अनुसार ही दान दें।
Quote 274: चालाक और लोभी बेकार में घनिष्ठता को बढ़ाते है।
Quote 275: लोभ बुद्धि पर छा जाता है, अर्थात बुद्धि को नष्ट कर देता है।
Quote 276: अपने तथा अन्य लोगों के बिगड़े कार्यों का स्वयं निरिक्षण करना चाहिए।
Quote 277: मूर्खों में साहस होता ही है। (यहाँ साहस का तात्पर्ये चोरी-चकारी, लूट-पाट, हत्या आदि से है )
Quote 278: मूर्खों से विवाद नहीं करना चाहिए।
Quote 279: मुर्ख से मूर्खों जैसी ही भाषा बोलें।
Quote 280: मुर्ख का कोई मित्र नहीं है।
Quote 281: धर्म के समान कोई मित्र नहीं है।
Quote 282: धर्म ही लोक को धारण करता है।
Quote 283: प्रेत भी धर्म-अधर्म का पालन करते है।
Quote 284: दया धरम की जन्मभूमि है।
Quote 285: धर्म का आधार ही सत्य और दान है।
Quote 286: धर्म के द्वारा ही लोक विजय होती है।
Quote 287: मृत्यु भी धरम पर चलने वाले व्यक्ति की रक्षा करती है।
Quote 288: जहाँ पाप होता है, वहां धर्म का अपमान होता है।
Quote 289: लोक-व्यवहार में कुशल व्यक्ति ही बुद्धिमान है।
Quote 290: सज्जन को बुरा आचरण नहीं करना चाहिए।
Quote 291: विनाश का उपस्थित होना सहज प्रकर्ति से ही जाना जा सकता है।
Quote 292: अधर्म बुद्धि से आत्मविनाश की सुचना मिलती है।
Quote 293: चुगलखोर व्यक्ति के सम्मुख कभी गोपनीय रहस्य न खोलें।
Quote 294: राजा के सेवकों का कठोर होना अधर्म माना जाता है।
Quote 295: दूसरों की रहस्यमयी बातों को नहीं सुनना चाहिए।
Quote 296: स्वजनों की सीमा का अतिक्रमण न करें।
Quote 297: पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो वह भाई है।
Quote 298: उदासीन होकर शत्रु की उपेक्षा न करें।
Quote 299: अल्प व्यसन भी दुःख देने वाला होता है।
Quote 300: स्वयं को अमर मानकर धन का संग्रह करें।
Quote 301: धनवान व्यक्ति का सारा संसार सम्मान करता है।
Quote 302: धनविहीन महान राजा का संसार सम्मान नहीं करता।
Quote 303: दरिद्र मनुष्य का जीवन मृत्यु के समान है।
Quote 304: धनवान असुंदर व्यक्ति भी सुरुपवान कहलाता है।
Quote 305: याचक कंजूस-से-कंजूस धनवान को भी नहीं छोड़ते।
Quote 306: उपार्जित धन का त्याग ही उसकी रक्षा है। अर्थात उपार्जित धन को लोक हित के कार्यों में खर्च करके सुरक्षित कर लेना चाहिए।
Quote 307: अकुलीन धनिक भी कुलीन से श्रेष्ठ है।
Quote 308: नीच व्यक्ति को अपमान का भय नहीं होता।
Quote 309: कुशल लोगों को रोजगार का भय नहीं होता।
Quote 310: जितेन्द्रिय व्यक्ति को विषय-वासनाओं का भय नहीं सताता।
Quote 311: कर्म करने वाले को मृत्यु का भय नहीं सताता।
Quote 312: साधू पुरुष किसी के भी धन को अपना ही मानते है।
Quote 313: दूसरे के धन अथवा वैभव का लालच नहीं करना चाहिए।
Quote 314: मृत व्यक्ति का औषधि से क्या प्रयोजन।
Quote 315: दूसरे के धन का लोभ नाश का कारण होता है।
Quote 316: दूसरे का धन किंचिद् भी नहीं चुराना चाहिए।
Quote 317: दूसरों के धन का अपहरण करने से स्वयं अपने ही धन का नाश हो जाता है।
Quote 318: चोर कर्म से बढ़कर कष्टदायक मृत्यु पाश भी नहीं है।
Quote 319: जीवन के लिए सत्तू (जौ का भुना हुआ आटा) भी काफी होता है।
Quote 320: हर पल अपने प्रभुत्व को बनाए रखना ही कर्त्यव है।
Quote 321: नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है।
Quote 322: निकम्मे अथवा आलसी व्यक्ति को भूख का कष्ट झेलना पड़ता है।
Quote 323: भूखा व्यक्ति अखाद्य को भी खा जाता है।
Quote 324: इंद्रियों के अत्यधिक प्रयोग से बुढ़ापा आना शुरू हो जाता है।
Quote 325: संपन्न और दयालु स्वामी की ही नौकरी करनी चाहिए।
Quote 326: लोभी और कंजूस स्वामी से कुछ पाना जुगनू से आग प्राप्त करने के समान है।
Quote 327: विशेषज्ञ व्यक्ति को स्वामी का आश्रय ग्रहण करना चाहिए।
Quote 328: उचित समय पर सम्भोग (sex) सुख न मिलने से स्त्री बूढी हो जाती है।
Quote 329: नीच और उत्तम कुल के बीच में विवाह संबंध नहीं होने चाहिए।
Quote 330: न जाने योग्य जगहों पर जाने से आयु, यश और पुण्य क्षीण हो जाते है।
Quote 331: अधिक मैथुन (सेक्स) से पुरुष बूढ़ा हो जाता है।
Quote 332: अहंकार से बड़ा मनुष्य का कोई शत्रु नहीं।
Quote 333: सभा के मध्य शत्रु पर क्रोध न करें।
Quote 334: शत्रु की बुरी आदतों को सुनकर कानों को सुख मिलता है।
Quote 335: धनहीन की बुद्धि दिखाई नहीं देती।
Quote 336: निर्धन व्यक्ति की हितकारी बातों को भी कोई नहीं सुनता।
Quote 337: निर्धन व्यक्ति की पत्नी भी उसकी बात नहीं मानती।
Quote 338: पुष्पहीन होने पर सदा साथ रहने वाला भौरा वृक्ष को त्याग देता है।
Quote 339: विद्या से विद्वान की ख्याति होती है।
Quote 340: यश शरीर को नष्ट नहीं करता।
Quote 341: जो दूसरों की भलाई के लिए समर्पित है, वही सच्चा पुरुष है।
Quote 342: शास्त्रों के ज्ञान से इन्द्रियों को वश में किया जा सकता है।
Quote 343: गलत कार्यों में लगने वाले व्यक्ति को शास्त्रज्ञान ही रोक पाते है।
Quote 344: नीच व्यक्ति की शिक्षा की अवहेलना करनी चाहिए।
Quote 345: मलेच्छ अर्थात नीच की भाषा कभी शिक्षा नहीं देती।
Quote 346: मलेच्छ अर्थात नीच व्यक्ति की भी यदि कोई अच्छी बात हो अपना लेना चाहिए।
Quote 347: गुणों से ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए।
Quote 348: विष में यदि अमृत हो तो उसे ग्रहण कर लेना चाहिए।
Quote 349: विशेष स्थिति में ही पुरुष सम्मान पाता है।
Quote 350: सदैव आर्यों (श्रेष्ठ जन) के समान ही आचरण करना चाहिए।
Quote 351: मर्यादा का कभी उल्लंघन न करें।
Quote 352: विद्वान और प्रबुद्ध व्यक्ति समाज के रत्न है।
Quote 353: स्त्री रत्न से बढ़कर कोई दूसरा रत्न नहीं है।
Quote 354: रत्नों की प्राप्ति बहुत कठिन है। अर्थात श्रेष्ठ नर और नारियों की प्राप्ति अत्यंत दुर्लभ है।
Quote 355: शास्त्र का ज्ञान आलसी को नहीं हो सकता।
Quote 356: स्त्री के प्रति आसक्त रहने वाले पुरुष को न स्वर्ग मिलता है, न धर्म-कर्म।
Quote 357: स्त्री भी नपुंसक व्यक्ति का अपमान कर देती है।
Quote 358: फूलों की इच्छा रखने वाला सूखे पेड़ को नहीं सींचता।
Quote 359: बिना प्रयत्न किए धन प्राप्ति की इच्छा करना बालू में से तेल निकालने के समान है।
Quote 360: महान व्यक्तियों का उपहास नहीं करना चाहिए।
Quote 361: कार्य के लक्षण ही सफलता-असफलता के संकेत दे देते है।
Quote 362: नक्षत्रों द्वारा भी किसी कार्य के होने, न होने का पता चल जाता है।
Quote 363: अपने कार्य की शीघ्र सिद्धि चाहने वाला व्यक्ति नक्षत्रों की परीक्षा नहीं करता।
Quote 364: परिचय हो जाने के बाद दोष नहीं छिपाते।
Quote 365: स्वयं अशुद्ध व्यक्ति दूसरे से भी अशुद्धता की शंका करता है।
Quote 366: अपराध के अनुरूप ही दंड दें।
Quote 367: कथन के अनुसार ही उत्तर दें।
Quote 368: वैभव के अनुरूप ही आभूषण और वस्त्र धारण करें।
Quote 369: अपने कुल अर्थात वंश के अनुसार ही व्यवहार करें।
Quote 370: कार्य के अनुरूप प्रयत्न करें।
Quote 371: पात्र के अनुरूप दान दें।
Quote 372: उम्र के अनुरूप ही वेश धारण करें।
Quote 373: सेवक को स्वामी के अनुकूल कार्य करने चाहिए।
Quote 374: पति के वश में रहने वाली पत्नी ही व्यवहार के अनुकूल होती है।
Quote 375: शिष्य को गुरु के वश में होकर कार्य करना चाहिए।
Quote 376: पुत्र को पिता के अनुकूल आचरण करना चाहिए।
Quote 377: अत्यधिक आदर-सत्कार से शंका उत्पन्न हो जाती है।
Quote 378: स्वामी के क्रोधित होने पर स्वामी के अनुरूप ही काम करें।
Quote 379: माता द्वारा प्रताड़ित बालक माता के पास जाकर ही रोता है।
Quote 380: स्नेह करने वालों का रोष अल्प समय के लिए होता है।
Quote 381: मुर्ख व्यक्ति को अपने दोष दिखाई नहीं देते, उसे दूसरे के दोष ही दिखाई देते हैं।
Quote 382: स्वार्थ पूर्ति हेतु दी जाने वाली भेंट ही उनकी सेवा है।
Quote 383: बहुत दिनों से परिचित व्यक्ति की अत्यधिक सेवा शंका उत्पन्न करती है।
Quote 384: अति आसक्ति दोष उत्पन्न करती है।
Quote 385: शांत व्यक्ति सबको अपना बना लेता है।
Quote 386: बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से पूर्व अपने आप पर ही क्रोध करना चाहिए।
Quote 387: बुद्धिमान व्यक्ति को मुर्ख, मित्र, गुरु और अपने प्रियजनों से विवाद नहीं करना चाहिए।
Quote 388: ऐश्वर्य पैशाचिकता से अलग नहीं होता।
Quote 389: स्त्री में गंभीरता न होकर चंचलता होती है।
Quote 390: धनिक को शुभ कर्म करने में अधिक श्रम नहीं करना पड़ता।
Quote 391: वाहनों पर यात्रा करने वाले पैदल चलने का कष्ट नहीं करते।
Quote 392: जो व्यक्ति जिस कार्य में कुशल हो, उसे उसी कार्य में लगाना चाहिए।
Quote 393: स्त्री का निरिक्षण करने में आलस्य न करें।
Quote 394: स्त्री पर जरा भी विश्वास न करें।
Quote 395: स्त्री बिना लोहे की बड़ी है।
Quote 396: सौंदर्य अलंकारों अर्थात आभूषणों से छिप जाता है।
Quote 397: गुरुजनों की माता का स्थान सर्वोच्च होता है।
Quote 398: प्रत्येक अवस्था में सर्वप्रथम माता का भरण-पोषण करना चाहिए।
Quote 399: स्त्री का आभूषण लज्जा है।
Quote 400: ब्राह्मणों का आभूषण वेद है।
Quote 401: सभी व्यक्तियों का आभूषण धर्म है।
Quote 402: विनय से युक्त विद्या सभी आभूषणों की आभूषण है।
Quote 403: शांतिपूर्ण देश में ही रहें।
Quote 404: जहां सज्जन रहते हों, वहीं बसें।
Quote 405: राजाज्ञा से सदैव डरते रहे।
Quote 406: राजा से बड़ा कोई देवता नहीं।
Quote 407: राज अग्नि दूर तक जला देती है।
Quote 408: राजा के पास खाली हाथ कभी नहीं जाना चाहिए।
Quote 409: गुरु और देवता के पास भी खाली नहीं जाना चाहिए।
Quote 410: राजपरिवार से द्वेष अथवा भेदभाव नहीं रखना चाहिए।
Quote 411: राजकुल में सदैव आते-जाते रहना चाहिए।
Quote 412: राजपुरुषों से संबंध बनाए रखें।
Quote 413: राजदासी से कभी शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए।
Quote 414: राजधन की ओर आँख उठाकर भी नहीं देखना चाहिए।
Quote 415: पुत्र के गुणवान होने से परिवार स्वर्ग बन जाता है।
Quote 416: पुत्र को सभी विद्याओं में क्रियाशील बनाना चाहिए।
Quote 417: जनपद के लिए ग्राम का त्याग कर देना चाहिए।
Quote 418: ग्राम के लिए कुटुम्ब (परिवार) को त्याग देना चाहिए।
Quote 419: पुत्र प्राप्ति सर्वश्रेष्ठ लाभ है।
Quote 420: प्रायः पुत्र पिता का ही अनुगमन करता है।
Quote 421: गुणी पुत्र माता-पिता की दुर्गति नहीं होने देता।
Quote 422: पुत्र से ही कुल को यश मिलता है।
Quote 423: जिससे कुल का गौरव बढे वही पुरुष है।
Quote 424: पुत्र के बिना स्वर्ग की प्राप्ति नहीं होती।
Quote 425: संतान को जन्म देने वाली स्त्री पत्नी कहलाती है।
Quote 426: एक ही गुरुकुल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का निकट संपर्क ब्रह्मचर्य को नष्ट कर सकता है।
Quote 427: पुत्र प्राप्ति के लिए ही स्त्री का वरण किया जाता है।
Quote 428: पराए खेत में बीज न डाले। अर्थात पराई स्त्री से सम्भोग (सेक्स) न करें।
Quote 429: अपनी दासी को ग्रहण करना स्वयं को दास बना लेना है।
Quote 430: विनाश काल आने पर दवा की बात कोई नहीं सुनता।
Quote 431: देहधारी को सुख-दुःख की कोई कमी नहीं रहती।
Quote 432: गाय के पीछे चलते बछड़े के समान सुख-दुःख भी आदमी के साथ जीवन भर चलते है।
Quote 433: सज्जन तिल बराबर उपकार को भी पर्वत के समान बड़ा मानकर चलता है।
Quote 434: दुष्ट व्यक्ति पर उपकार नहीं करना चाहिए।
Quote 435: उपकार का बदला चुकाने के भय से दुष्ट व्यक्ति शत्रु बन जाता है।
Quote 436: सज्जन थोड़े-से उपकार के बदले बड़ा उपकार करने की इच्छा से सोता भी नहीं।
Quote 437: देवता का कभी अपमान न करें।
Quote 438: आंखों के समान कोई ज्योति नहीं।
Quote 439: आंखें ही देहधारियों की नेता है।
Quote 440: आँखों के बिना शरीर क्या है?
Quote 441: जल में मूत्र त्याग न करें।
Quote 442: नग्न होकर जल में प्रवेश न करें।
Quote 443: जैसा शरीर होता है वैसा ही ज्ञान होता है।
Quote 444: जैसी बुद्धि होती है , वैसा ही वैभव होता है।
Quote 445: स्त्री के बंधन से मोक्ष पाना अति दुर्लभ है।
Quote 445: सभी अशुभों का क्षेत्र स्त्री है।
Quote 446: स्त्रियों का मन क्षणिक रूप से स्थिर होता है।
Quote 447: तपस्वियों को सदैव पूजा करने योग्य मानना चाहिए।
Quote 448: पराई स्त्री के पास नहीं जाना चाहिए।
Quote 449: अन्न दान करने से भ्रूण हत्या (गर्भपात) के पाप से मुक्ति मिल जाती है।
Quote 450: वेद से बाहर कोई धर्म नहीं है।
Quote 451: धर्म का विरोध कभी न करें।
Quote 452: सत वाणी से स्वर्ग प्राप्त होता है।
Quote 453: सत्य से बढ़कर कोई तप नहीं।
Quote 454: सत्य से स्वर्ग की प्राप्ति होती है।
Quote 455: सत्य पर संसार टिका हुआ है।
Quote 456: सत्य पर ही देवताओं का आशीर्वाद बरसता है।
Quote 457: गुरुओं की आलोचना न करें।
Quote 458: दुष्टता नहीं अपनानी चाहिए।
Quote 459: झूठ से बड़ा कोई पाप नहीं।
Quote 460: दुष्ट व्यक्ति का कोई मित्र नहीं होता।
Quote 461: संसार में निर्धन व्यक्ति का आना उसे दुखी करता है।
Quote 462: दानवीर ही सबसे बड़ा वीर है।
Quote 463: गुरु, देवता और ब्राह्मण में भक्ति ही भूषण है।
Quote 464: विनय सबका आभूषण है।
Quote 465: जो कुलीन न होकर भी विनीत है, वह श्रेष्ठ कुलीनों से भी बढ़कर है।
Quote 466: याचकों का अपमान अथवा उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।
Quote 467: मधुर व प्रिय वचन होने पर भी अहितकर वचन नहीं बोलने चाहिए।
Quote 468: बहुमत का विरोध करने वाले एक व्यक्ति का अनुगमन नहीं करना चाहिए।
Quote 469: दुर्जन व्यक्ति के साथ अपने भाग्य को नहीं जोड़ना चाहिए।
Quote 470: सदाचार से मनुष्य का यश और आयु दोनों बढ़ती है।
Quote 471: अपने व्यवसाय में सफल नीच व्यक्ति को भी साझीदार नहीं बनाना चाहिए।
Quote 472: पुरुष के लिए कल्याण का मार्ग अपनाना ही उसके लिए जीवन-शक्ति है।
Quote 473: कठिन कार्य करवा लेने के उपरान्त भी नीच व्यक्ति कार्य करवाने वाले का अपमान ही करता है।
Quote 474: कृतघ्न अर्थात उपकार न मानने वाले व्यक्ति को नरक ही प्राप्त होता है।
Quote 475: उन्नति और अवनति वाणी के अधीन है।
Quote 476: अपने धर्म के लिए ही कोई सत्पुरुष कहलाता है।
Quote 477: स्तुति करने से देवता भी प्रसन्न हो जाते है।
Quote 478: झूठे अथवा दुर्वचन लम्बे समय तक स्मरण रहते है।
Quote 479: जिन वचनो से राजा के प्रति द्वेष उत्पन्न होता हो, ऐसे बोल नहीं बोलने चाहिए।
Quote 480: कोयल की कुक सबको अच्छी है।
Quote 481: प्रिय वचन बोलने वाले का कोई शत्रु नहीं होता।
Quote 482: जो मांगता है, उसका कोई गौरव नहीं होता।
Quote 483: सौभाग्य ही स्त्री का आभूषण है।
Quote 484: शत्रु की जीविका भी नष्ट नहीं करनी चाहिए।
Quote 485: बहुत पुराना नीम का पेड़ होने पर भी उससे सरौता नहीं बन सकता।
Quote 486: एरण्ड वृक्ष का सहारा लेकर हाथी को अप्रसन्न न करें।
Quote 487: पुराना होने पर भी शाल के वृक्ष से हाथी को नहीं बाँधा जा सकता।
Quote 488: बहुत बड़ा कनेर का वृक्ष भी मूसली बनाने के काम नहीं आता।
Quote 489: जुगनू कितना भी चमकीला हो, पर उससे आग का काम नहीं लिया जा सकता।
Quote 490: समृद्धता से कोई गुणवान नहीं हो जाता।
Quote 491: बिना प्रयत्न के जहां जल उपलब्ध हो, वही कृषि करनी चाहिए।
Quote 492: जैसा बीज होता है, वैसा ही फल होता है।
Quote 493: जैसी शिक्षा, वैसी बुद्धि।
Quote 494: जैसा कुल, वैसा आचरण।
Quote 495: शुद्ध किया हुआ नीम भी आम नहीं बन सकता।
Quote 496: जो सुख मिला है, उसे न छोड़े।
Quote 497: मनुष्य स्वयं ही दुःखों को बुलाता है।
Quote 498: लोक व्यवहार शास्त्रों के अनुकूल होना चाहिए।
Quote 499: रात्रि में नहीं घूमना चाहिए।
Quote 500: आधी रात तक जागते नहीं रहना चाहिए।
Quote 501: बिना अधिकार के किसी के घर में प्रवेश न करें।
Quote 502: पराए धन को छीनना अपराध है।
Quote 503: किसी कार्यारंभ के समय को विद्वान और अनुभवी लोगों से पूछना चाहिए।
Quote 504: अकारण किसी के घर में प्रवेश न करें।
Quote 505: संसार में लोग जान-बूझकर अपराध की ओर प्रवर्त्त होते हैं।
Quote 506: शास्त्रों के न जानने पर श्रेष्ठ पुरुषों के आचरणों के अनुसार आचरण करें।
Quote 507: शास्त्र शिष्टाचार से बड़ा नहीं है।
Quote 508: राजा अपने गुप्तचरों द्वारा अपने राज्य में होने वाली दूर की घटनाओ को भी जान लेता है।
Quote 509: साधारण पुरुष परम्परा का अनुसरण करते है।
Quote 510: जिसके द्वारा जीवनयापन होता है, उसकी निंदा न करें।
Quote 511: इन्द्रियों को वश में करना ही तप का सार है।
Quote 512: स्त्री के बंधन से छूटना अथवा मोक्ष पाना अत्यंत कठिन है।
Quote 513: स्त्री का नाम सभी अशुभ क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है।
Quote 514: अशुभ कार्य न चाहने वाले स्त्रियों में आसक्त नहीं होते।
Quote 515: तीन वेदों ऋग, यजु व साम को जानने वाला ही यज्ञ के फल को जानता है।
Quote 516: स्वर्ग की प्राप्ति शाश्वत अर्थात सनातन नहीं होती।
Quote 517: जब तक पुण्य फलों का अंश शेष रहता है, तभी तक स्वर्ग का सुख भोग जा सकता है।
Quote 518: स्वर्ग-पतन से बड़ा कोई दुःख नहीं है।
Quote 519: प्राणी अपनी देह को त्यागकर इंद्र का पद भी प्राप्त करना नहीं चाहता।
Quote 520: समस्त दुखों को नष्ट करने की औषधि मोक्ष है।
Quote 521: दुर्वचनों से कुल का नाश हो जाता है।
Quote 522: पुत्र के सुख से बढ़कर कोई दूसरा सुख नहीं है।
Quote 523: विवाद के समय धर्म के अनुसार कार्य करना चाहिए।
Quote 524: प्रातःकाल ही दिन-भर के कार्यों के बारें में विचार कर लें।
Quote 525: विनाशकाल आने पर आदमी अनीति करने लगता है।
Quote 525: दान जैसा कोई वशीकरण मन्त्र नहीं है।
Quote 526: पराई वस्तु को पाने की लालसा नहीं रखनी चाहिए।
Quote 527: दुर्जन व्यक्तियों द्वारा संगृहीत सम्पति का उपभोग दुर्जन ही करते है।
Quote 528: नीम का फल कौए ही खाते है।
Quote 529: समुद्र के पानी से प्यास नहीं बुझती।
Quote 530: जिस प्रकार बालू अपने रूखे स्वभाव नहीं छोड़ सकता, उसी प्रकार दुष्ट भी अपना स्वभाव नहीं छोड़ पाता।
Quote 531: सज्जन दुर्जनों में विचरण नही करते।
Quote 532: हंस पक्षी श्मशान में नहीं रहता। अर्थात ज्ञानी व्यक्ति मुर्ख और दुष्ट व्यक्तियों के पास बैठना पसंद नहीं करते।
Quote 533: समस्त संसार धन के पीछे लगा है।
Quote 534: यह संसार आशा के सहारे बंधा है।
Quote 535: केवल आशा के सहारे ही लक्ष्मी प्राप्त नहीं होती।
Quote 536: आशा के साथ धैर्य नहीं होता।
Quote 537: निर्धन होकर जीने से तो मर जाना अच्छा है।
Quote 538: आशा लज्जा को दूर कर देती है अर्थात मनुष्य को निर्लज्ज बना देती है।
Quote 539: आत्मस्तुति अर्थात अपनी प्रशंसा अपने ही मुख से नहीं करनी चाहिए।
Quote 540: दिन में स्वप्न नहीं देखने चाहिए।
Quote 541: दिन में सोने से आयु कम होती है।
Quote 542: धन के नशे में अंधा व्यक्ति हितकारी बातें नहीं सुनता और न अपने निकट किसी को देखता है।
Quote 543: श्रेष्ठ स्त्री के लिए पति ही परमेश्वर है।
Quote 544: पति का अनुगमन करना, इहलोक और परलोक दोनों का सुख प्राप्त करना है।
Quote 545: घर आए अतिथि का विधिपूर्वक पूजन करना चाहिए।
Quote 546: नित्य दूसरे को समभागी बनाए।
Quote 547: दिया गया दान कभी नष्ट नहीं होता।
Quote 548: लोभ द्वारा शत्रु को भी भ्रष्ट किया जा सकता है।
Quote 549: मृगतृष्णा जल के समान है।
Quote 550: विनयरहित व्यक्ति की ताना देना व्यर्थ है।
Quote 551: बुद्धिहीन व्यक्ति निकृष्ट साहित्य के प्रति मोहित होते है।
Quote 552: सत्संग से स्वर्ग में रहने का सुख मिलता है।
Quote 553: श्रेष्ठ व्यक्ति अपने समान ही दूसरों को मानता है।
Quote 554: रूप के अनुसार ही गुण होते है।
Quote 555: जहां सुख से रहा जा सके, वही स्थान श्रेष्ठ है।
Quote 556: विश्वासघाती की कहीं भी मुक्ति नहीं होती।
Quote 557: दैव (भाग्य) के अधीन किसी बात पर विचार न करें।
Quote 558: श्रेष्ठ और सुहृदय जन अपने आश्रित के दुःख को अपना ही दुःख समझते है।
Quote 559: नीच व्यक्ति ह्र्दयगत बात को छिपाकर कुछ और ही बात कहता है।
Quote 560: बुद्धिहीन व्यक्ति पिशाच अर्थात दुष्ट के सिवाय कुछ नहीं है।
Quote 561: असहाय पथिक बनकर मार्ग में न जाएं।
Quote 562: पुत्र की प्रशंसा नहीं करनी चाहिए।
Quote 563: सेवकों को अपने स्वामी का गुणगान करना चाहिए।
Quote 564: धार्मिक अनुष्ठानों में स्वामी को ही श्रेय देना चाहिए।
Quote 565: राजा की आज्ञा का कभी उल्लंघन न करे।
Quote 566: अपनी सेवा से स्वामी की कृपा पाना सेवकों का धर्म है।
Quote 567: जैसी आज्ञा हो वैसा ही करें।
Quote 568: विशेष कार्य को (बिना आज्ञा भी) करें।
Quote 569: राजसेवा में डरपोक और निकम्मे लोगों का कोई उपयोग नहीं होता।
Quote 570: नीच लोगों की कृपा पर निर्भर होना व्यर्थ है।
Quote 571: बुद्धिमानों के शत्रु नहीं होते।
Quote 573: शत्रु की निंदा सभा के मध्य नहीं करनी चाहिए।
Quote 574: क्षमाशील व्यक्ति का तप बढ़ता रहता है।
Quote 575: बल प्रयोग के स्थान पर क्षमा करना अधिक प्रशंसनीय होता है।
Quote 576: क्षमा करने वाला अपने सारे काम आसानी से कर लेता है।
Quote 577: साहसी लोगों को अपना कर्तव्य प्रिय होता है।
Quote 578: दोपहर बाद के कार्य को सुबह ही कर लें।
Quote 579: धर्म को व्यावहारिक होना चाहिए।
Quote 580: लोक चरित्र को समझना सर्वज्ञता कहलाती है।
Quote 581: तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है।
Quote 582: कर्म करने से ही तत्त्वज्ञान को समझा जा सकता है।
Quote 583: धर्म से भी बड़ा व्यवहार है।
Quote 584: आत्मा व्यवहार की साक्षी है।
Quote 585: आत्मा तो सभी की साक्षी है।
Quote 586: कूट साक्षी नहीं होना चाहिए।
Quote 587: झूठी गवाही देने वाला नरक में जाता है।
Quote 588: पक्ष अथवा विपक्ष में साक्षी देने वाला न तो किसी का भला करता है, न बुरा।
Quote 589: व्यक्ति के मन में क्या है, यह उसके व्यवहार से प्रकट हो जाता है।
Quote 590: पापी की आत्मा उसके पापों को प्रकट कर देती है।
Quote 591: प्रजाप्रिय राजा लोक-परलोक का सुख प्रकट करता है।
Quote 592: मनुष्य के चेहरे पर आए भावों को देवता भी छिपाने में अशक्त होते है।
Quote 593: चोर और राजकर्मचारियों से धन की रक्षा करनी चाहिए।
Quote 595: राजा के दर्शन न देने से प्रजा नष्ट हो जाती है।
Quote 596: राजा के दर्शन देने से प्रजा सुखी होती है।
Quote 597: अहिंसा धर्म का लक्षण है।
Quote 598: संसार की प्रत्येक वास्तु नाशवान है।
Quote 599: भले लोग दूसरों के शरीर को भी अपना ही शरीर मानते है।
Quote 600: मांस खाना सभी के लिए अनुचित है।
Quote 601: ज्ञानी पुरुषों को संसार का भय नहीं होता।
Quote 602: कीड़ों तथा मलमूत्र का घर यह शरीर पुण्य और पाप को भी जन्म देता है।
Quote 603: जन्म-मरण में दुःख ही है।


अनमोल वचन (Precious words)

_*तुलसी इस संसार में, भांति भांति के लोग।*_
_*सबसे हस मिल बोलिए, नदी नाव संजोग॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, इस संसार में तरह-तरह के लोग रहते हैं. आप सबसे हँस कर मिलो और बोलो जैसे नाव नदी से संयोग कर के पार लगती है वैसे आप भी इस भव सागर को पार कर लो._

2.
_*आवत ही हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह।*_
_*तुलसी तहां न जाइये कंचन बरसे मेह॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, जिस स्थान या जिस घर में आपके जाने से लोग खुश नहीं होते हों और उन लोगों की आँखों में आपके लिए न तो प्रेम और न ही स्नेह हो. वहाँ हमें कभी नहीं जाना चाहिए, चाहे वहाँ धन की हीं वर्षा क्यों न होती हो._

3.
_*तुलसी साथी विपत्ति के, विद्या विनय विवेक।*_
_*साहस सुकृति सुसत्यव्रत, राम भरोसे एक॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, विपत्ति में अर्थात मुश्किल वक्त में ये चीजें मनुष्य का साथ देती है. ज्ञान, विनम्रता पूर्वक व्यवहार, विवेक, साहस, अच्छे कर्म, सत्य और राम ( भगवान ) का नाम._

4.
_*काम क्रोध मद लोभ की, जौ लौं मन में खान।*_
_*तौ लौं पण्डित मूरखौं, तुलसी एक समान॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, जब तक व्यक्ति के मन में काम की भावना, गुस्सा, अहंकार, और लालच भरे हुए होते हैं. तब तक एक ज्ञानी व्यक्ति और मूर्ख व्यक्ति में कोई अंतर नहीं होता है, दोनों एक ही जैसे होते हैं._

5.
_*दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान।*_
_*तुलसी दया न छांड़िए, जब लग घट में प्राण॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, धर्म का मूल भाव ही दया हैं और अहम का भाव ही पाप का मूल (जड़) होता है. इसलिए जब तक शरीर में प्राण है कभी दया को नहीं त्यागना चाहिए._

6.
_*तुलसी मीठे बचन ते, सुख उपजत चहुँ ओर।*_
_*बसीकरन इक मंत्र है, परिहरू बचन कठोर॥*_
अर्थ : _तुलसीदासजी कहते हैं, मीठे वचन सब ओर सुख फैलाते हैं. किसी को भी वश में करने का ये एक मन्त्र है इसलिए मानव को चाहिए कि कठोर वचन छोड़कर मीठा बोलने का प्रयास करे._

7.
_*तुलसी भरोसे राम के, निर्भय हो के सोए।*_
_*अनहोनी होनी नही, होनी हो सो होए॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, भगवान् राम पर विशवास करके चैन की बांसुरी बजाओ. इस संसार में कुछ भी अनहोनी नहीं होगी और जो होना उसे कोई रोक नहीं सकता. इसलिये आप सभी आशंकाओं के तनाव से मुक्त होकर अपना काम करते रहो._

8.
_*तुलसी पावस के समय, धरी कोकिलन मौन।*_
_*अब तो दादुर बोलिहं, हमें पूछिह कौन॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, वर्षा ऋतु में मेंढकों के टर्राने की आवाज इतनी ज्यादा हो जाती है कि, कोयल की मीठी वाणी उनके शोर में दब जाती है. इसलिए कोयल मौन धारण कर लेती है. अर्थात जब धूर्त और मूर्खों का बोलबाला हो जाए तब समझदार व्यक्ति की बात पर कोई ध्यान नहीं देता है, ऐसे समय में उसके चुप रहने में ही भलाई है._

9.
_*सहज सुहृद गुरस्वामि सिखजो न करइ सिर मानि।*_
_*सो पछिताइ अघाइ उर अवसि होइहित हानि॥*_
अर्थ : _स्वाभाविक ही हित चाहने वाले गुरु और स्वामी की सीख को जो सिर चढ़ाकर नहीं मानता, वह दिल से बहुत पछताता है और उसके हित की हानि अवश्य होती है._

10.
_*मुखियामुखु सो चाहिऐ, खान पान कहुँ एक।*_
_*पालइपोषइ सकल अंग, तुलसी सहित बिबेक॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, मुखिया मुख के समान होना चाहिए जो खाने-पीने को तो अकेला है, लेकिन विवेकपूर्वक सब अंगों का पालन-पोषण करता है._

11.
_*तुलसी नर का क्या बड़ा, समय बड़ा बलवान।*_
_*भीलां लूटी गोपियाँ, वही अर्जुन वही बाण॥*_
अर्थ : _तुलसीदास जी कहते हैं, समय ही व्यक्ति को सर्वश्रेष्ठ और कमजोर बनता है. अर्जुन का वक्त बदला तो उसी के सामने भीलों ने गोपियों को लूट लिया जिसके गांडीव की टंकार से बड़े बड़े योद्धा घबरा जाते थे._
 


The Tathastoo.com

we provides wide range of astrological services like online horoscope making & matching, online astrology consultancy for all problems.

------- Speak to our team today -------

info@thetathastoo.com | Call: +9185880 32669