फेंग सुई (Feng Sui)



फेंग सुई (Feng Sui)
मनी प्लांट यानि धन का पौधा
जैसा कि नाम से ही जाहिर है मनी प्लांट यानि धन का पौधा। यह पौधा जितना हरा होता है घर में धन का आगमन उसी तेजी से होता है। इसके पत्तों का मुरझाना या सफेद हो जाना अशुभ माना जाता है। भूमि पर फैलकर वृद्धि करने वाली बेल दोषकारक होती है।
2. मनी प्लांट यानि धन का पौधा
वैसे तो घर में रखने के लिए आपको पॉम लीव्स, बोनसाई जैसे कई इंडोर प्लांट मिल जाएँगे, लेकिन कम खर्च और अच्छी ग्रोथ के कारण जो रंग मनी प्लांट आपके घर में भरता है, वह किसी अन्य इंडोर प्लांट से संभव नहीं। इस प्लांट को लेकर लोगों के मन में कई तरह की धारणाएँ हैं, जैसे- इस पौधे को घर में लगाने से घर में पैसा आता है, तो कुछ का मानना है कि इस पौधे को लगाने से घरवालों की तरक्की होती है। आइए जानते हैं...
3. मनी प्लांट यानि धन का पौधा
ऎसी मान्यता है कि जिसके घर में मनी प्लांट का पौधा लगा होता है उसके उसके घर में न केवल सुख-समृद्धि में इजाफा होता है बल्कि घर में धन का भी आगमन होता है| इसी वजह से कुछ लोग घरों में मनी प्लांट का पौधा लगाते हैं| लेकिन कई बार मनी प्लांट लगाने के बावजूद भी धनागमन में कई अंतर नहीं होता बल्कि और आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है| इसका कारण हे गलत दिशा.
4. उचित दिशा
वास्तु शास्त्र के अनुसार हर पौधे के लिए एक दिशा निर्धारित होती है| यदि पौधे को उचित दिशा में लगाया गया तो वह सकारात्मक प्रभाव डालता है वहीँ, यदि उसके उस पौधे का गलत स्थिति में वृक्षारोपण किया गया तो वह नकारात्मक प्रभाव डालता है जिससे फायदा होने की बजाय नुकसान होने लगता है|
5. रखें सावधानियां...
वास्तु के अनुसार, यदि सही दिशा और सही जगह में मनी प्लांट का पौधा नहीं लगाया गया तो धनलाभ के बजाय हानि का सामना करना पड़ता है| वास्तु शास्त्रीयों का मानना है कि मनी प्लांट के पौधे के घर में लगाने के लिए आग्नेय दिशा सबसे उचित दिशा है। इस दिशा में यह पौधा लगाने से सकारात्मक ऊर्जा का भी लाभ मिलता है।
6. रखें सावधानियां...
मनी प्लांट को आग्नेय यानि दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाने का कारण ये है इस दिशा के देवता गणेशजी है जबकि प्रतिनिधि शुक्र हैं। गणेश जी अमंगल का नाश करने वाले हैं जबकि शुक्र सुख-समृद्धि लाने वाले। यही नहीं बल्कि बेल और लता का कारण शुक्र को माना गया है। इसलिए मनी प्लांट को आग्नेय दिशा में लगाना उचित माना गया है।
7. कभी ना करें यह गलती
मनी प्लांट को कभी भी ईशान यानि उत्तर पूर्व दिशा में नहीं लगाना चाहिए, यह दिशा इसके लिए सबसे नकारात्मक मानी गई है। क्योंकि ईशान दिशा का प्रतिनिधि देवगुरू बृहस्पति को माना गया है। और शुक्र तथा बृहस्पति में शत्रुवत संबंध होता है। इसलिए शुक्र से संबंधित यह पौधा ईशान दिशा में होने पर नुकसान होता है। हालांकि इस दिशा में तुलसी का लगाया जा सकता है।
8. दाम्पत्य सुख बढ़ाता है मनी प्लांट
घरों का सुंदरता बढ़ाने के लिये मनी प्लांट्स लगाए जाते हैं। ये शुक्र के कारक हैं। मनी प्लांट लगाने से पति-पत्नी के संबंध मधुर होते हैं। फँगशुई के अनुसार बांस के पौधे सुख व समृद्धि के प्रतीक होते हैं
9. मनी प्लांट की खासियत
मनी प्लांट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि घर हो या आँगन यह प्लांट कहीं भी आसानी से लग जाता है। साथ ही यह केवल पानी में भी लगाया जा सकता है और इसके रखरखाव के लिए भी ज्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ती है। इसे घर के अंदर व बाहर दोनों जगह ही रखा जा सकता है।
10. मनी प्लांट की खासियत
मनी प्लांट ऐसी जगह रखें जहां अधिक धूप ना हो। इसे घर में भी रखा जा सकता है। पानी में रखना बेहतर होता है लेकिन इस पानी को हर सप्ताह बदल देना चाहिए। जमीन पर इसकी बेलों को नहीं फैलाना चाहिए।
11. मनी प्लांट की खासियत
मनी प्लांट को घर के अंदर गमले में अथवा बोतल में पानी भरकर भी लगाया जा सकता है। इससे सुख-समृद्धि प्रदान करने वाले सकारात्मक उर्जा को आकर्षित किया जा सकता है।
12. मनी प्लांट की खासियत
जिस कोने में यह होता है उसकी ओर बरबस ही निगाहें चली जाती हैं। आप चाहें तो इसकी इन सुनहरी पत्तियों को काँट-छाँट कर इसे और भी आकर्षक बना सकते हैं।
पढ़े लिखे⁠⁠⁠⁠

फेंग सुई (Feng Sui)
छिपकली  से छुटकारा पाने का इलाज 
 Home Remedies for Lizards:
 
1) मोर के पंख – यह एक सबसे आसन tarika है छिपकली को घर से भागने का | 5-6 मोर के पंख (Peacock Feathers) को ले कर दीवाल पर चिपका दें और छिपकली कुछ ही दिनों में गायब हो जायेगी | छिपकली में सजह प्रवती होती है की कैसे अपने दुश्मनो / शिकारियों से बचना है | मोर (Peacock) छिपकली को खाते है, इसलिए छिपकली मोर के पंख को देख कर ही भाग जायेगी | अगर आपको मोर पंख नहीं मिल रहे है तो कोई और पंछी के पंख को इस्तेमाल कर सकते हैं |
 
2) प्याज – जी हाँ, प्याज (onion) भी एक अचूक dawa की तरह काम करता है छिपकली को भागने में | आप बस प्याज़ को ले कर घर के दरवाजे या फिर जहाँ chipakli अक्सर दिखती हो वहां पर टांग दें | प्याज़ की तीखे महक से छिपकली खुद बा खुद घर छोड़ कर चली जायेगी |
 
3) फेनाइल की गोली – इसे Naphthalene Balls भी बोला जाता है | यह अक्सर हम सभी अपने कपड़ो के बिच में रखते है ताकि कीड़े नहीं लगे | आप इस फेनाइल की गोली को दरवाजे, पलंग, आलमीरा और जहाँ जहाँ छिपकली अक्सर दिखती हो वहां पर 2 से 3 गोली छोड़ दें | वे इसके महक को सहन नहीं कर पायेंगी और भाग जायेंगी |
 
4) लहसुन – भले ही हमें garlic अच्छा लगता हो परन्तु छिपकली इसके गंध से दूर भागती हैं | एक लहसुन को ले कर उसे 5-6 भाग में बात लें और जहाँ जहाँ आपको छिपकली अक्सर दिखती हो वहां पर इसे टांग दें | कुछ दिनों में छिपकली अपने आप भाग जायेगीं |
 
5) मिर्ची स्प्रे – लाल मिर्ची की गंध बहुत तीखी होती है और इसे छिपकली सहन नहीं कर पाती हैं | आप मिर्ची स्प्रे को जहाँ जिस जगह छिपकली दिखती हो वहां पर इसे स्प्रे कर दें, 2 से 4 दिनों में ही वे रफूचक्कर हो जायेगीं | पर इसके लिए आपको daily स्प्रे करना होगा |
 
1 बोतल में 1/2 glass पानी
लाल मिर्ची पावडर लें
इसे अच्छे तरह से मिला लें
लीजिये आपकी मिर्ची spray तैयार है |⁠⁠⁠⁠

फेंग सुई (Feng Sui)

घर में सुख-समृद्धि लाता है एक्‍वेरियम

 

 

एंक्‍वेरियम मछलियों को एक आशियाना। सभी को एक्‍वेरियम बहुत पसंद है लोग अपने घरो में एक से बढकर एक एक्‍वेरियम रखते है। लोग अपने ड्राईंगरूम या बेडरूम कहीं पर भी इन अठखेलियां करती हुयी मछलियों को रखना पसंद करते है। मछलियों का यह छोटा सा आशियाना आपके आशियाने में चार चांद लगा देता है। वैसे तो एक्‍वेरियम को बहुत से लोग केवल सजावट का साधन मात्र मानते है लेकिन आपको यह जानकर खुशी होगी कि यह केवल सजावट के लिए नहीं ब्‍लकी आपके जीवन में सुख-समृद्धि लाने में भी सहयोग करता है।

आजकल बाजारों में कई तरह के एक्‍वेरिम मौजूद है छोटे से बॉउल से लेकर बड़े से बड़े आयताकार एक्‍वेरियम। इन एक्‍वेरियमों की किमत भी सैकड़ो से लेकर लाखों तक जाती है। एक बात और यह कोई आवश्‍यक नहीं की आप बड़ा एक्‍वेरियम ही अपने घर में लगायें आप छोटे से बॉउल में भी कुछ मछलियों को रखकर एक्‍वेरियम तैयार कर सकते है। सामान्‍यत एक्‍वेरियम में मछलियों का घुमना आंखो को सकून देता है।

मछलियो के बारे में प्राचीन काल से ही विदीत है क‍ि यह लक्ष्‍मी लाती है और इन्‍हे पालने वालों को धन की प्राप्‍ती होती है। इसी आधार पर प्राचीन काल से ही राजा महाराजा अपने किले आदी में एक छोटा सा तालाब बनवाते थे और उसमे मछलियां पालते थे। इतना ही नहीं रोजाना उन मछलियों को अपने हाथों से दाना खिलाना भी उनके आदत में शुमार होता था।

मछलियों को दाना खिलाना भी मानसिक सकून का एक सटीक जरीया है। लेकिन आज के समय में तालाब बनवाना और मछलियों को पालना उतना आसान नहीं है लेकिन आपके पास एक्‍वेरियम जैसे विकल्‍प है जो कि आपकी इस इच्‍छा को आसानी से पुरा कर सकते है।

आईये आपको बताते है कि एक्‍वेरियम किस तरह से आपके जीवन में धन, वैभव, सुख, समृद्धि आदी लाता है।

एक्‍वेरियम सुख- समृद्धि का वाहक के रूप में

- प्राचीन काल से ही यह विदीत है कि मछलियां धन की वाहक होती है, इसके अलांवा फेंगशुई के अनुसार भी एक्‍वेरियम धन और सम्‍पदा में वृद्वी करता है।

- एक्‍वेरियम पारिवार में एक प्रेमपूर्ण माहौल बनाए रखता है, परिवार में कलह आदी होने से बचाता है।

- एक्‍वेरियम में मछलियों का अठखेलियां करना घर में जल तत्‍व का विचरण करना, और विकास के मार्ग प्रसस्‍त करता है।

- एक्‍वेरियम परिवार के उपर आने वाले किसी विपत्‍ती से आपको बचाता है, ऐसी स्थिती में कभी कभी एक्‍वेरियम में रखी कीसी मछली की अकस्‍मात मौत हो जाती है।

- एक्‍वेरियम कार्य करने के जगह पर रखने से आप में सदैव नयी उर्जा भरता रहता है।

- मानसिक संतुष्‍टी, और दिमाग में नये और अच्‍छे विचार लाता है।

- वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार एक्‍वेरियम को घर के उत्‍तर-पूर्व दिशा में रखना समृद्धिदायक होता है।

कैसे रखे एक्‍वेरियम, और करे देखभाल

एक्‍वेरियम रखना केवल अपना शौक पुरा करना मात्र नहीं है। एक्‍वेरियम को रखने के लिए सही जगह का चुनाव उसकी देखभाल करना भी बहुत आवश्‍यक है। एक्‍वेरियम को सदैव घर के उत्‍तर-पूर्व के कोने में रखने का प्रयास करे। एक्‍वेरियमम को कभी भी कमरे के मध्‍य या कमरे के बीच के टेबल आदी पर मत रखें। एक्‍वेरियम के जगह पर किनारे से प्रकाश की उचित व्‍यवस्‍था होनी चाहिए।

एक्‍वेरियत सदैव साफ सुथरा रहना चाहिए। समय समय पर एक्‍वेरियम का पानी बदलते रहना चाहिए यदि आपको बड़ा एक्‍वेरियम रखने में परेशानी हो तो आपको छोटा सा बॉउल आदी में ही मछलियों को रखना चाहिए। एक्‍वेरियम में सुनरही मछली और कम से कम एक काली मछली अवश्‍य रखनी चाहिए। एक्‍वेरियम में प्रयोग किये जाने वाले एयर फिल्‍टर, हिटर, वाटर फ्यूरीफायर आदी लगा होना चाहिए।

एक्‍वेरियम के मछलियों को एक साथ ज्‍यादा खाना नहीं खिलाना चाहिए। कोशिश करनी चाहिए कि मछलियों को घर में किसी बजुर्ग के हाथों से ही दाना खिलाया जायें। एक्‍वेरियम को कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं रखना चाहिए। रात में कमरे की बत्‍ती बन्‍द करने के बाद भी एक्‍वेरियम की लाईट जलती रहनी चाहिए। इससे घर में किसी तरह बुरी रूहे या गलत ताकते प्रवेश नहीं कर सकती है।

एक्‍वेरियम बाजार में आसानी से हर साईज में उपलब्‍ध होते है। आपको अपने सुविधानुसार एक्‍वेरियम को अपने घर में रखना चाहिए। इसके अलांवा समय समय पर बाजारों में मिलने वाले दवाओ आदी का भी एक्‍वेरियम के पानी में प्रयोग करते रहना चाहिए।



The Tathastoo.com

we provides wide range of astrological services like online horoscope making & matching, online astrology consultancy for all problems.

------- Speak to our team today -------

info@thetathastoo.com | Call: +9185880 32669